सेक्सी कामवाली को चोदकर मजा लिया

Xxx मेड सेक्स कहानी मेरे घर में काम करने वाली जवान लड़की की है. एक छुट्टी वाले दिन मैं घर में अकेला था और वो बहुत बनठन कर आई थी. मेरा दिल आ गया उसपर!

दोस्तो, मेरा नाम लवली गज्जू है. मैं गुजरात का रहने वाला हूँ.
मेरी उम्र 28 साल है.
मेरा शारीरिक सौष्ठव अच्छा है. कद पांच फुट सात इंच का है और लौड़ा साढ़े छह इंच लंबा व तीन इंच मोटा है.

मेरे घर में मैं, मेरे माता पिता और मेरी पत्नी को मिलाकर हम 4 लोग रहते हैं.

मुझे सेक्स कहानी पढ़ना बहुत अच्छा लगता है और उसमें भी खासतौर पर शीमेल वाली सेक्स कहानी, कामवाली और आंटी की चुदाई कहानी पढ़ना बेहद मजेदार लगता है.

यह मेरी पहली सच्ची सेक्स कहानी है. यह Xxx मेड सेक्स कहानी तब की है जब मेरे माता पिता किसी रिश्तेदार के घर पर गए थे और मेरी बीवी भी अपने मायके गयी हुई थी.

मेरे माता पिता चार बजे तक आने की कह कर निकले थे.

हमारे यहां घर का काम करने हाशना आती है.
हाशना देखने में सांवली, पर बेहद आकर्षक लगती है. उसका फिगर 36-20-34 का है.

वो जब घर आती है तो सजसंवर कर आती है. उसे देख कर ऐसा लगता है मानो वो किसी को भी अपना लट्टू बना दे.

उसकी उम्र भी केवल 24 साल की है. एकदम पका हुआ माल लगती है. उसकी अभी शादी नहीं हुई है.

उसके घर की परिस्थिति सही नहीं होने से वो पूरा दिन काम करके गुजारा करती है.
मगर जितना भी उसके पास होता है उससे वो खुद को संवार कर रखती है.

उस दिन वो काम पर आयी तो एकदम नई दुल्हन के जैसी सजी धजी थी.
वो नया सलवार सूट पहने कर आयी तो मेरा तो ईमान ही डोल गया.

उसने एकदम कसी हुई सलवार कमीज पहनी थी.
उसके दूध तो उसकी कुर्ती से मानो निकल कर भागने को आतुर दिख रहे थे.
हाशना के बूब्स मुझे इतने ज्यादा आकर्षित कर रहे थे कि मेरी तो उन पर से नजर ही नहीं हट रही थी. वो किसी हीरोइन को भी टक्कर दे सकती थी.

तभी मुझे ख्याल आया कि आज तो इनके यहाँ कई त्यौहार है. तभी हाशाना अज ज्यादा ही संवर कर आई थी.
इसी त्यौहार के कारण मेरी छुट्टी भी थी तो मैं घर पर रहने वाला था.

हाश्ना से मेरी काफी अच्छी बनती है तो मैंने मजाक में उसको देखकर बोल दिया- हाशना, आज तो तुम एकदम पटाखा लग रही हो. अपने ब्वॉयफ्रेंड से मिलने जाने वाली हो क्या?
उसने ठंडी सांस लेकर कहा- काहे का ब्वॉयफ्रेंड? काम से फुरसत मिले तो आप जैसा कोई ब्वॉयफ्रेंड ढूंढू.

मैं तो खुशी से फूल गया कि उसको मैं इतना अच्छा लगता हूँ.
मैंने कहा- क्या मैं तुम्हें इतना अच्छा लगता हूँ?
वो हंस दी और शर्मा कर बोली- हां साहेब.

मैंने मजाक में अपनी छाती पर हाथ फेरते हुए कहा- आह मर जावां … आज पहली बार किसी ने ये कहा है.
वो हंसने लगी और बोली- क्यों झूठ बोल रहे हो साहेब … मालकिन तो रोज ही कहती होंगी.

मैंने कहा- उसे मैं मिल गया हूँ, वो मुझे कुछ समझती ही नहीं है. मैं तो उसका पर्सनल माल हो गया हूँ न!
वो फिर से जोर जोर से हंसने लगी.

मैं अपने बेडरूम में चला गया और हाशना को याद करके अपना लंड सहलाने लगा.
कुछ देर बाद वो मेरे बेडरूम की सफाई करने अन्दर आयी.

मैंने उसको बड़े प्यार से अपने पास बिठाया और पूछा- आज तुम्हारा त्यौहार है ना … बता, तुझे क्या चाहिए तोहफे में?
उसने शर्माते हुए कहा- आप जो भी चाहें दे दें.

मैं तो मस्ती के मूड में था, तो मैंने उसके गाल पर किस कर दिया और कहा- मैं तो ऐसा प्यार दे सकता हूँ.
वो एकदम से शर्मा गई और अपने हाथ मसलने लगी.

फिर धीरे से बोली- ऐसा प्यार मिल जाए, तो मेरी तो ईद ही बन जाए.

उसकी मुराद सुनकर मेरी तो खुशी का ठिकाना ही न रहा और फटाक से उसको अपनी और खींच कर चूमना चालू कर दिया.
वो एकदम से पानी पानी सी होने लगी.

उसके होंठ एकदम मुलायम गुलाब की पंखुड़ियों जैसे मेरे कब्जे में आ गए.
मैंने उसकी गर्दन पर चुम्बन किया तो वो एकदम से मेरे सिर पर हाथ फेरने लगी और गर्म होने लगी.

मैंने उसके होंठों पर चुम्मा लिया तो वो मेरे होंठों से लग गई और मुझे बेकरारी से चूमने लगी.
तब मैंने उसकी जीभ से अपनी जीभ लड़ा दी और हमारे बीच गर्म चुम्बन परवान चढ़ने लगे.

मैंने धीरे से उसकी कुर्ती ऊपर की, उसने सफ़ेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी और उसके सांवले रंग के बदन पर सफ़ेद ब्रा पैंटी मस्त लग रही थी.
उसकी मादक देहयष्टि ने मेरे लंड को लोहे जैसा खड़ा कर दिया.

वो भी मेरे कड़क लंड को महसूस कर रही थी.
मैं उसके हाथ को लंड पर ले गया.

उसने अपना हाथ हटाया नहीं, बस बड़े प्यार से अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी.

हम दोनों के बदन आग से सुलगने लगे.
मैं उसे चूमने लगा और वो अपने हाथ से मेरे लंड को मसलने लगी.

मैंने धीमे से कहा- उसे बाहर निकाल कर प्यार करो.
उसने मेरे पजामे को नीचे कर दिया और मेरे तनतनाते हुए लंड को हाथ में ले लिया.

मेरे लौड़े में इतनी ज्यादा सख्ती आ गई थी कि समझो वो फटने को था.
वो भी मेरे लंड को पकड़ कर उसे बड़े प्यार से देख रही थी.
लंड के टोपे से प्रीकम की बूँदें उसे मोहित कर रही थीं.

मैं फिर से फुसफुसाया- इसे अपने मुँह से चूम कर प्यार करो.
उसने देर नहीं की और झुक कर मेरे लंड के सुपारे को चूम लिया.

फिर अचानक से उसने लौड़े की चमड़ी को नीचे किया, तो मेरा लाल सुपारा बाहर निकल कर लार टपकाने लगा.

उसने जीभ से मेरे लौड़े को चाटा.
मेरी गर्म आह निकल गई.

उसी समय उसने मेरे लंड को मुँह में भर लिया और चूसने लगी.
कुछ पल लंड चाट कर उसने उसे रसीला बना दिया. मुझसे रहा नहीं जा रहा था.

मैंने उसको अपने सामने किया और उसके कपड़े हटा दिए.
अब उसके जिस्म पर सिर्फ एक पैंटी रह गई थी.

वो लजा गई और अपने बदन को हाथों से छिपाने लगी.
मैंने उसके हाथ हटा दिए.

आह … शानदार दूध मेरे सामने इतने घमंड से अकड़े हुए तने थे, मानो वो अपने सामने किसी को कुछ समझते ही न हों.
मैंने एक दूध की घुंडी को अपने होंठों से पकड़ा और खींच दिया.

उसकी ‘आह मर गई …’ की आवाज निकली और उसने मुझे अपने मम्मों पर दबा लिया ‘आह चूस लो इन्हें.’

मैं उसके मम्मों को इतनी मस्ती से चूमने और चूसने लगा कि वो उछलने लगी.
कामातुर होकर वो मुझे जगह जगह किस करने लगी.

इतना प्यार तो मेरी बीवी ने भी नहीं किया था, जितना वो मुझे चूम रही थी.
मैं तो मानो जन्नत में पहुंच गया था.

मैंने उसकी पैंटी निकाल दी और चूत का दीदार किया, तो देखता ही रह गया. एकदम जामुनी रंग की भरी हुई चूत मेरे सामने थी.
हल्के से बालों के बीच मानो जैसे कोई स्वर्ग का दरवाजा चमक रहा था. बेहद मस्त महक आ रही थी.

आज वो नहाने के बाद जब सजी होगी, तब शायद उसने अपनी चूत पर भी कुछ खुशबू जैसा लगाया था.
मुझसे रुका न गया और मैंने एकदम से अपना मुँह उसकी चूत पर लगा कर चूत का रसपान करना चालू कर दिया.

आह क्या मस्त स्वाद था. कुछ देर तक चूत चाटने के बाद मैंने अपनी एक उंगली अन्दर डाली, तो वो एकदम से आह भरने लगी.
वो बहुत गीली हो गई थी.

फिर मैंने उसको बेड में गिराया और उसके ऊपर चढ़ कर उसको प्यार करने लगा.
उसने कहा- साहेब अब और ना तड़पाओ, अपना लंड अन्दर डाल दो जल्दी से. कब से आपसे चुदना चाह रही थी.

मैं हैरान था कि इतना शानदार माल मेरे लंड के लिए बेचैन था और मैं चूतिया सा उसकी चाहत को कभी समझ ही नहीं पाया.
मैंने एक बार अपने लंड को फिर से उसके मुँह में दे दिया और उसने अपने थूक से लंड को चाट कर गीला कर दिया.

मैंने लंड उसकी चूत पर लगाया और जोर से अन्दर घुसा दिया.
वो एकदम से चिल्लायी.

मैं लंड पेल कर रुक गया और उसके मम्मों पर किस करने लगा.
कुछ पल बाद वो शान्त हो गई और मजे लेने लगी.

मैं धक्के पर धक्का मारने लगा और वो मस्ती से गांड उठाने लगी.
वो बड़बड़ाने लगी- अहा अहा और जोर से … आह मजा आ रहा है … और तेज और तेज!

कुछ दस मिनट बाद उसने अपना गर्म लावा छोड़ दिया और मैं भी झड़ने को ही गया था.

कुछ अनहोनी न हो जाए इसलिए मैं तुरन्त लंड निकाल कर 69 में हुआ और उसकी चूत का पानी चाटने लगा.

उसने भी मेरे लंड को मुँह में ले लिया और जोर जोर से अपने मुँह में लेकर आगे पीछे करने लगी.

उसने मेरा वीर्य निकाल कर खा लिया.
उसका पूरा मुँह मेरे वीर्य से भर गया था.
वो पूरा माल निगल गई.

लंड ढीला हो गया था मगर वो लंड छोड़ना ही नहीं चाह रही थी.

लगातार लंड चुसाई से लंड फिर से तनतनाने लगा.
उसने मेरे लंड को चूस चाट कर फिर से खड़ा कर दिया था.

मैं समझ गया कि अभी एक बार से इसकी भूख शांत नहीं हुई है.
मैं भी ऐसे गदर माल को कैसे छोड़ देता.

मैंने उसको अपने ऊपर ले लिया और वो मेरे लंड पर अपनी चूत सैट करके बैठ गई और उन्ह उन्ह कर गांड उछालने लगी.
उसकी चूचियां हवा में यूँ उछल रही थीं मानो कोई अपने बल्ले पर एक साथ दो गेंदों को उछाल कर खेल रहा हो.

मैंने उसकी चूचियों को अपने हाथों से पकड़ लिया और भींचते हुए लंड उठा उठा कर उसे चोदने लगा.
सच में इतना ज्यादा मजा आ रहा था कि बस करते ही जाने का मन हो रहा था.

वो भी अपने दोनों हाथ हवा में उठाए हुए अपनी गांड मेरे लौड़े पर रगड़ रही थी और मस्ती भरी आवाजें निकाल रही थी- आह और करो … और तेज तेज से पेलो.
पूरे रूम में हमारी कामुक आवाजें गूंजने लगी थीं.

मैंने अपनी स्पीड बढा दी और वो झड़ गई.

झट से मैंने उसे अपने लौड़े के नीचे ले लिया और धकापेल चोदने लगा.
कुछ ही देर में वो फिर से झड़ गई.

उसने दो बार अपना पानी छोड़ दिया था; वो निढाल हो गई थी.

अब मेरा निकलने वाला था तो मैंने फिर से लंड को चूत से निकाला और उसके मुँह में दे दिया.

वो लंड चूसने लगी.
कुछ ही देर में लंड ने हार मान ली और वो पूरा वीर्य पी गई.

सच में मुझे इतना मजा पहले कभी नहीं आया था.
मेरी बीवी भी नहीं देती ऐसा मजा, जैसा हाशना से मिला.

मैं उसको चूमने लगा और बहुत प्यार किया.
फिर हम दोनों साथ में नहाने लगे.

उस टाइम भी हम दोनों ने बहुत रोमांस किया और दोनों ने मुखमैथुन का मजा लिया.

उस दिन हमने बढ़िया सेक्स का मजा लिया था.
वो Xxx मेड सेक्स के बाद चली गई.
जाते वक़्त मैंने खुश होकर उसे तोहफा भी दिया.

उसने मुझे एकदम से गले लगा लिया और लम्बा किस भी किया.

अब जब भी हम दोनों को मौका मिलता, हम दोनों ऐसे ही प्यार करते.

आपको मेरी सच्ची Xxx मेड सेक्स कहानी कैसी लगी. अपनी राय जरूर दीजिए और मेल जरूर कीजिए.
[email protected]

Check Also

पुताई वाले मजदूर से चुद गई मैं

मैं एक Xxx लड़की हूँ, गंदा सेक्स पसंद करती हूँ. एक दिन मेरे घर में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *