लंड की प्यासी मौसेरी बहनें- 1

फैमिली सेक्स Xxx कहानी मेरी मौसी की बेटी की चूत मारने की है. मैंने अपनी मौसेरी बहन पटा ली. फिर उसके घर पर जाकर मैंने कैसे मैंने उसकी चूत मारी?

हैलो फ्रेंड्स. मेरा नाम योगेश है. मैं अन्तर्वासना का 2010 से नियमित पाठक हूँ.
मैंने अन्तर्वासना की लगभग सभी कहानियां पढ़ी हैं.
खासकर रिश्तों में फैमिली सेक्स Xxx कहानी पढ़ना मुझे बहुत अच्छा लगता है.

हालांकि इसमें आधी से अधिक कहानियां बनावटी होती हैं किंतु इनमें भी इतना सेक्स होता है कि लंड खड़ा हुए बिना नहीं रहता है।
कुछ कहानियों में सच्चाई दिखती है जिनको पढ़ कर मेरा मन भी करता है कि मैं भी कुछ ऐसा ही करूं.

मैंने अब तक अपने रिश्तेदारी में कइयों को पटाकर चोदने की कोशिश की है. जिनमें से मैं अपनी ममेरी बहन और दूर की भाभी और अपनी भतीजी को चोदने में कामयाब रहा हूं।
मेरी पिछली कहानी थी: दीदी को बर्थडे गिफ्ट में मिले दो लण्ड

बाकी बाहर की तो कई चूतों के मजे मिले हैं लेकिन रिश्तों में चुदाई का अलग ही मजा है।
इन्ही कोशिशों की सफलता में मेरी मौसी की दोनों बेटियां भी शामिल हो गयीं।

दोस्तो, यह सेक्स कहानी मेरी मौसी की बेटी अंजलि और मेघा की है।
जैसा कि अन्तर्वासना की कहानियों में बहन को चोदना जितना आसान बताया जाता है, वो उतना आसान नहीं होता है।
बहुत पापड़ बेलने पड़ते हैं रिश्तेदारी में चुदाई को अंजाम देने के लिए।

मुझे भी अंजलि को पटाने में कई महीनों का समय लग गया।

अंजलि की उम्र 24 साल है. मैं उससे 1 साल बड़ा हूं. फिगर उसका मस्त है और 5’4″ की हाइट है। इसके साथ ही कातिलाना अंदाज में उभरे हुए चूचे और गोल गोल फूली हुई गांड। पूरा सेक्स बम लगती है वो!

वहीं मेघा 20 साल की कच्ची कली है जिसके लम्बे काले घने बाल हैं जो उसके कूल्हों तक आते हैं. छोटे छोटे चूचे और गोल उभार वाली गांड है उसकी!

कड़ी मेहनत के बाद मुझे मेरा फल मिलने लगा। अंजलि ने चुदने के लिए मुझे अपने घर आने को कहा। मैं घर वालों से बहाना बना कर घूमने के लिए मौसी के घर आगरा आ गया।

पहले दिन अंजलि और मैं मौका तलाशते रहे लेकिन निराशा हाथ आयी।
अगले दिन रविवार था तो मौसी मेरे मौसा के साथ मार्केट गई थी।

मैं टीवी देख रहा था और अंजलि झाड़ू लगा रही थी।
अंजलि झुक कर झाड़ू लगाते हुए मेरे सामने आई।
मेरी नजरें टीवी छोड़ कर अंजलि की हिलती हुई गांड देखने लगीं।

अंजलि आधी नीचे की ओर झुकी थी जिससे उसकी गांड और ज्यादा बाहर निकली हुई नजर आने लगी।

मौका अच्छा था. मैंने उठकर मेन डोर बन्द कर दिया और मैंने इधर उधर नजर दौड़ा कर देखा कि आस पास मेघा है या नहीं.
वो शायद बाहर गयी हुई थी क्योंकि काफी देर से मुझे वो दिखी नहीं थी.

मैंने अंजलि की कमर पकड़ कर गांड में अपना लण्ड सटा दिया।
अंजलि ने कहा- क्या कर रहे हो? मेघा देख लेगी।
मैंने कहा- अभी तो नहीं है वो घर में शायद!

फिर मैंने उसके दोनों हाथ पीछे पकड़ कर कपड़ों के ऊपर से ही अपना लण्ड उसकी गांड और चूत में गोल गोल टकराना शुरू कर दिया.
अंजलि भी अपनी गांड हिलाने लगी।

उसकी गांड और चूत की धार को मैं अपने लण्ड पर महसूस कर रहा था।
मैंने कहा- चलो … जल्दी से निपटा लेते हैं.
वो बोली- क्या बात है … बहुत जल्दी है … रुका नहीं जा रहा क्या?

मैंने उसे अपनी ओर खींचते हुए कहा- नहीं मेरी जान … जल्दी कर ना!
कहकर मैं उसके होंठों को पीने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी.

उस वक्त अंजलि ने टीशर्ट और छोटा शार्ट्स पहन रखा था। मैं अंजलि को किस करते करते उसकी पीठ को सहलाते हुए अपना हाथ शॉर्ट्स में डालकर उसकी गांड भींचने लगा।
उसकी मुलायम गोल गांड मेरे हाथों में दबने लगी।

अंजलि मुस्कराते हुए मेरा लण्ड छू रही थी।

तभी दरवाजे की बेल बजी।
मैंने तुरन्त अपना लण्ड ठीक से सेट किया और अंजलि ने दरवाजा खोला.

फिर वो वापस आकर झाड़ू लगाने लगी।
अंजलि ने मेरी तरफ देखा और मुस्कराने लगी।

इतने में मेघा बाहर से आई. उसने जीन्स और पिंक टॉप और काली नेट वाली जैकेट पहनी थी।

मैं तो पहले से ही मूड में था और मेघा को ऐसे देख मेरा लंड पैंट में ही तनने लगा।

फिर वो कुछ कागज लेकर दोबारा से बाहर निकल गयी.
उसके जाते ही मौसा मौसी भी आ गये.
मेरी हवस की आग ऐसे ही धधकती रह गयी.

अब मैं प्यासा रह गया था. खड़ा लंड खड़ा ही रहा और पूरा दिन ऐसे ही गुजर गया.

फिर शाम होने तक मुझसे रुका न गया और मैंने मौका पाकर अंजलि को छत पर चलने के लिए कहा.

हम छत पर पहुंचे और थोड़ी देर में कुछ करने ही वाले थे कि मेघा भी आ गयी।
मेघा ने भी छोटा कॉटन का शॉर्ट्स पहन रखा था और टीशर्ट डाली हुई थी.

उसकी गोरी जांघों को देख मेरा लौड़ा फूलने लगा।
अंजलि ने मुझे कोहनी मारी जो शांत रहने का इशारा था।
मैंने जैसे तैसे अपना लण्ड शांत किया.

मेघा अपनी फोटो दिखा कर पूछने लगी कि कौन सी ज्यादा अच्छी है?
मैं फोटो देखते हुए मेघा को चोदने का सोचने लगा।
मैंने कहा- यार … ये तो बहुत मुश्किल है कि किसी एक फोटो के बारे में बता पाऊं. मुझे तो सारी अच्छी लग रही हैं. एकदम हॉट लग रही हो सभी में!

दोस्तो, वाकई में ही मेघा की खूबसूरती बहुत कमाल थी. उसके फुले हुए गुलाबी गाल और सुराहीनुमा कमर और गोल गांड ही काफी थी किसी को उकसाने के लिए।

थोड़ी देर में हम नीचे आ गए क्योंकि शाम ढल गयी थी.
फिर खाना खाया और अपने रूम में चले गए.

मैं हॉल में ही सोता था। मेघा और अंजलि एक रूम में और मौसा मौसी अपने रूम में सोते थे।

रात के अंधेरे की तरह मेरी हवस भी बढ़ने लगी। मैंने अंजलि को बाहर बुलाया और बाथरूम में चलने को कहा जहां मैं मेरी हवस बुझा सकता था।

अंजलि ने मना कर दिया और कहने लगी कि उसे खड़े खड़े मजा नहीं आता।
मैंने छत पर चलने को कहा मगर अंजलि मुझे अपने रूम में ले गयी।

वहां पर मेघा पहले से ही सो रही थी. वहां जाकर तो मैं और पागल हो गया. मेघा की कमसिन जवानी कहर बरसा रही थी.
मैं अंजलि से बोला- पागल है क्या तू? यहां करेंगे हम? अगर मेघा जाग गयी तो?

अंजलि कहने लगी- नहीं जागेगी, तुम अपना काम करो.
यह कह कर उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया।

मैं किस करने लगा और अंजलि भी पूरी तरह साथ देने लगी.

मैंने 2 मिनट में ही अंजलि की ब्रा उतार दी। उसके बड़े बड़े गोरे चूचे नंगे कर दिये. उसके निप्पल्स थोड़े डार्क थे. मगर चूचे एकदम से सिल्की सॉफ्ट थे.

उनको देखते ही मन मचल उठा.
बिना देर किए मैंने दोनों का बारी बारी से रसपान किया. मन भरने तक मैंने उनको मसला.

फिर मैंने जल्दी से अपने कपड़े उतारे और अंजलि के हाथ में अपना लण्ड थमा दिया।
अंजलि ने बड़े प्यार से लंड को देखा और कहने लगी- कब से इसके लिए तरस रही थी. आज इससे अपनी प्यास बुझाऊंगी।
मैंने कहा- इसने बहुत लोगों की प्यास बुझाई है. आज तुम्हारा नम्बर है। अब बात कम करो और चूसना शुरू करो मेरी रानी।

वो मेरे लौड़े को अपने होंठों पर रख कर मुंह के अंदर लेने लगी।
उसकी जीभ टच होते ही मैंने कहा- यस बेबी … आह्ह … पूरा चूस … चूस जा रानी.

अंजलि मेरा बड़ा लण्ड चूसने में मग्न हो गई। देखते ही देखते अंजलि के होंठ मेरे गोटे तक आ गए।
मैं उसकी चूत चड्डी के ऊपर से सहला रहा था।

उसने लाल बॉर्डर वाली सफेद चड्डी पहनी थी जिस पर पिंक कलर के छोटे छोटे दिल के प्रिंट बने हुए थे।

अंजलि ने मेरा गीला लण्ड हाथ में पकड़ा और पिंक टोपे को जीभ लगाने लगी.
आह्ह … मैं तो सिसकार उठा.

वो साली मुझे पागल कर रही थी. वो अपनी जीभ मेरे टोपे पर गोल गोल घुमा रही थी।

2 मिनट बाद मैं अंजलि के गोरे गोरे दूधों के बीच अपना लौड़ा रगड़ने लगा और अंजलि जीभ निकाल कर मेरे टोपे का स्वागत कर रही थी।

उसके दोनों गोरे दूधों पर मेरे लौड़े का पानी और अंजलि का थूक लग गया।
लण्ड के पानी और थूक से सराबोर हो चुके चूचे चमकने लगे थे।

मैं अंजलि को चूमते हुए नीचे गया और उसकी चड्डी निकाली.
उसकी चड्डी से अलग तरह की खुशबू आ रही थी. शायद किसी तरह का परफ्यूम था।

अंजलि की चूत की किनारी हल्की काली थी. उस पर सुनहरे रंग के बाल थे.

मैं उसकी चूत चाटने के लिए आगे बढ़ा.
उसकी चूत की वो खुशबू … आह्ह … क्या कहूं दोस्तो!

अपनी जीभ मैं चूत के पास ले गया और चूत को चूमते हुए चूत के होंठों को दांतों से दबाया.
अंजलि कसमसा उठी.
मैंने उसकी पूरी चूत पर जीभ फेरी।

उसकी पूरी चूत थूक और चूत के पानी से सन गयी.
मैंने जीभ अंदर डाल दी और ऊपर नीचे करके चाटने लगा।
अंजलि मस्त होकर सिसकारने लगी- इस्स … उम्म … आह्ह … मेरे राजा … खा लो पूरी चूत!

तभी मेघा ने करवट बदली और उसकी गांड मेरी तरफ हुई.
मैं मेघा की गांड देख और तेजी से जीभ चलाने लगा और उंगली भी डाल दी।
इधर अंजलि हल्की हल्की सिसकारियां ले रही थी और कह रही थी- आह्ह चोदो … यार … चोद लो अब … ओह्ह … मेरे राजा।

मैं उठ कर अपने लौडे़ से अंजलि की नाभी को सहलाते हुए चूत के होंठों पर रगड़ने लगा.
अंजलि तड़पने लगी थी और उसकी आहें तेज हो गयीं. वो अपने दोनों दूध खुद दबाने लगी।

मेरा भी लण्ड अब बस में नहीं था. मैंने अंजलि की गांड के नीचे तकिया रखा. उसके दोनों पैर ऊपर करके चिपकाए और चूत में लंड का सुपाड़ा सेट करके झटका दे दिया.

अंजलि ने आंखें बंद करके आह्ह … की आवाज के साथ मेरे लंड का अपनी चूत में स्वागत किया.
मैंने झटके देने शुरू किए. बिस्तर भी हल्के हल्के हिलने लगा और अंजलि आंखें बंद करके स्वर्ग का सुख लेने लगी।

मेरा लंड लेते हुए उसकी सिसकारियां निकलने लगीं. मैं मिशनरी पोज में चोदते हुए उसको किस कर रहा था.

मेघा ने फिर करवट बदली जिसके कारण मैं थोड़ा डर गया और रुक गया.
मैंने चूत में झटके लगाने बंद कर दिये थे.
मैं उसको किस कर रहा था.

अंजलि बोली- चोद ना यार … रुक क्यों गया?
मैंने उसके होंठों पर उंगली रखी और मेघा की तरफ इशारा किया.

वो इतने में खुद ही अपनी चूत को मेरे लंड पर धकेलने लगी और लंड का मजा लेने लगी.

फिर मैंने उसको घोड़ी बना लिया. उसको पीछे से चोदने लगा. पीछे से उसकी गांड दबाते हुये थप्पड़ मारने पर अंजलि और तेज आवाज में आह्ह … आह्ह … करने लगती।

मैंने अंजलि के हाथ पीछे से पकड़े और तेजी से चोदना शुरू किया.
बेड पूरा हिल रहा था. अंजलि सिसकारते हुए आह्ह … स्सस … उफ्फ … याहह … ओह्हह … कमॉन आह्ह … ओह्ह … चोदो राजा … जोर से चोदो मुझे … कह रही थी.

इधर मैं भी मेघा को भूलकर हवस में पागल होकर चोदने लगा.

कुछ देर में मैं अंजलि की चूत में झड़ गया।
हम दोनों शांत हो गये.
फिर अंजलि अपनी चुदी हुई चूत को साफ करने बाथरूम में गयी।

अब मेरा ध्यान मेघा की ओर गया.
मैंने मेघा की जांघ टच की और हल्के से सहलाया. उसकी गांड का जायजा अपने हल्के हाथों से लिया।

मेरा मन कर रहा था कि मेघा का भी स्वाद चख लूं कि तभी अंजलि बाथरूम से निकल आयी।

मेरा लण्ड मेघा को टच करके वापस खड़ा हो गया था.

थोड़ी देर में अंजलि ने वापस अपने जिस्म का जलवा दिखाया और मैंने अंजलि को अपने लण्ड पर बिठाकर जन्नत की सैर कराई.

अंजलि अपनी गांड घुमा घुमा कर लौड़े का मजा ले रही थी।

20 मिनट की चुदाई के बाद मैं अंजलि के मुंह में झड़ा और अंजलि ने हंस कर मेरे लंड से निकला सोम रस पी लिया।

मैंने अपने कपड़े पहने और फिर अपनी जगह पर सोने चला गया।

अंजलि की चुदाई मैंने कर ली थी लेकिन मन नहीं भरा था. मेरी निगाहें अब मेघा की जवानी पर टिकी थीं.

उसकी कमसिन जवानी के सामने अंजलि मुझे कम लगने लगी थी. अब मैं किसी तरह मेघा तक अपने मन की बात पहुंचाना चाहता था.

मगर कैसे … ये मुझे समझ नहीं आ रहा था.

दोस्तो, यह फैमिली सेक्स Xxx कहानी अगले भाग में भी जारी रहेगी. आपको ये चुदाई की गर्म कहानी कैसी लगी इस बारे में अपनी राय जरूर दें. आपके ईमेल्स और कमेंट्स का इंतजार रहेगा मुझे।
[email protected]

Check Also

पति पत्नी की चुदास और बड़े लंड का साथ- 1

गन्दी चुदाई की कहानी में हम पति पत्नी दोनों चुदाई के लिए पागल रहते थे, …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *