पहली बार में गांड फट गई

न्यू गे बॉटम सेक्स कहानी में पढ़ें कि एक नया नया जवान हुआ लड़का गे सेक्स में कैसे घुस गया. उसकी नजर मर्दों की पैन्ट में उनके लंड पर जाती थी.

फ़्रेंड्स, मेरा नाम शोएब है, मैं गुजरात का रहने वाला हूँ.
मैं एक गे लौंडा हूँ. अभी मेरी उम्र 26 साल है.

यह न्यू गे बॉटम सेक्स कहानी आज से 6 साल पहले की है जब मुझे ऐसा लगने लगा कि मुझे मर्दों का लंद भी पसंद आने लगा है.

मैं जब भी किसी पोस्टर में किसी मॉडल को देखता या किसी हीरो को देखता, तो सबसे पहले मेरी नजर उसकी टांगों के बीच में जाती थी।
उसके बाद उसकी चौड़ी छाती पर मेरी नजरें किसी प्यासी लड़की के जैसे घूमने लगती थीं.

राह चलते आते जाते राहगीरों में भी मेरी कामुक निगाहें सिर्फ उनकी पैंटों में लंड की जगह पर टिक जाती थीं.

मैं कभी कभी सोचता था कि मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है … क्या ये सिर्फ मेरे साथ ही होता है या और भी लोगों के साथ होता है.
इसका उत्तर मेरे पास नहीं होता था.

मैं इस बात को बिल्कुल नहीं जानता था कि मेरे जैसे बहुत लोग हो सकते हैं.

एक बार की बात है, जब मैं फेसबुक चला रहा था, तभी मेरे मन में एक आईडिया आया कि मैं ऐसे मर्द की तलाश करूं … जो मुझे अपना लंड दिखाए.
यही सोचते हुए मैं अपना हाथ खुद अपनी गांड पर फेरने लगा.

अपनी गांड पर हाथ फेरा तो उस समय मुझे दूसरा ख्याल आया कि क्यों न पॉर्न मूवी में ही इस बात को चैक किया जाए कि लंड वाले आपस में क्या करते हैं.

मैंने एक पॉर्न साइट खोली और उसमें ये सर्च किया कि आदमी आदमी कैसे सेक्स करते हैं.
ये डाला ही था कि उधर से गे शब्द मेरे सामने या गया.

मैंने गे शब्द से संबंधित पॉर्न को ही खंगाला, तो मेरे पास एक से एक चिकने मर्द आ गए, जिनके पास मस्त मस्त लंड थे.
अब उन पॉर्न तस्वीरों और वीडियो को देख कर मुठ मारा जा सकता था, गांड में उंगली की जा सकती मगर वास्तविकता में गांड के लिए कुछ नहीं किया जा सकता था.

मुझे फिलहाल इस वक्त अपनी गांड की प्यास बुझानी जरूरी लग रही थी.
ये सोच कर मैंने एक बार फिर से पॉर्न की तरफ ध्यान देना शुरू किया.

मैंने पोर्न मूवी देखी, तो उसमें मैंने देखा कि एक मर्द अपनी गांड में एक रबर का नकली लंड डाल रहा था.
वो देख कर मेरी भी इच्छा हुई कि क्यों न ऐसा ही किया जाए.

फिर मैंने गोल मोमबत्ती ली और अपनी गांड में डालने की कोशिश की.
वो अन्दर चली गई.
मैं तो बहुत खुश हो गया.

अब मैं सोचने लगा कि आज मैंने मोमबत्ती डाली, अब कल कोई और इससे भी ज्यादा बड़ा और मोटा कुछ डालूंगा.

तभी मुझे फ्रिज में रखी हुई गाजर याद आई.
मैंने सोचा कल क्यों, आज ही उसे भी अन्दर डाल देता हूं.

मैंने चुपके से फ्रिज में से गाजर निकाली और बाथरूम में जाकर उसे अपनी गांड में डालने लगा.
वो भी अन्दर चली गई.

दोस्तो, मुझे इतना अच्छा लगा कि उसके बारे में सोच सोच कर पूरी रात सो ही नहीं पाया.
दूसरे ही दिन मैंने तय कर लिया कि कुछ भी हो जाए … अब मैं किसी मर्द का असली लंड लूंगा.

फिर मैंने सोचा कि मुझे ऐसा मर्द कहां मिलेगा, जो मेरी बात समझे और मेरी गांड में अपना लंड डाल दे.
तभी मैंने फिर से फेसबुक पर सर्च करने का विचार किया और फ़ेसबुक खोली.

मैं उसके सर्च बार में गया और उधर गे ब्वॉय सर्च किया.
वहां बहुत सारे लोगों के नाम आ गए. वो सब गे थे.

मुझे तो मानो खजाना मिल गया था.
लेकिन खुद की प्राइवेसी के लिए मैंने मेरे दूसरे नम्बर से एक फेक फेसबुक आईडी बना ली.

बस फिर क्या था … मैंने अपने जैसे लोगों से बातें करना आरम्भ कर दिया.
मैं अपने समीप के मर्द खोजना चाहता था ताकि जल्दी लंड मिल सके.

तभी एक बंदे ने मैसेज में पूछा कि तुम टॉप हो या बॉटम?
मैंने कहा- ये क्या होता है?

तो उसने पूछा- क्या तुमको लंड लेना पसंद है … या पेलना पसंद है?
मैंने कहा- हां, मुझे लेना बहुत ज्यादा पसंद है.

तो उसने कहा- इसका मतलब ये हुआ कि तुम एक बॉटम हो.
मैंने पूछा- तुम क्या हो?

उसने कहा- मैं एक टॉप हूँ. मुझे लोगों की गांड मारने में मज़ा आता है.
मैंने गांड मराने की तैयारी में आते हुए उससे पूछा- क्या मेरी गांड मारोगे?

तो उसने कहा- हां बिल्कुल मारूँगा.
फिर उसने पूछा- कौन सी सिटी से हो?

मैंने कहा- दाहोद!
तो वो बोला- मैं भी दाहोद से ही हूँ.

फिर उसने मेरी उम्र पूछी, तो मैंने बीस साल बताई.
वो शायद बहुत अधिक खुश हो गया था.

उसने मेरी कम उम्र को ध्यान में रखते हुए मुझसे पूछा- अब तक कितने खा चुके हो?

अब इधर तो किसी भोसड़ी वाले का लंड सामने से देखा तक नहीं था कि कैसा होता है, तो ये क्या सवाल हुआ कि कितने खा चुके हो.
तब भी मैंने उसे गोली देते हुए कहा- तुमको उससे क्या लेना देना है? तुम तो बस हां या ना में अपनी बात करो.

वो जल्दी से बोला- हां यार, मुझे तुम्हारी लेने में खुशी होगी. तुम अपनी बताओ कि क्या तुम मुझसे अपनी गांड मरवाओगे?
मैंने भी हामी भर दी.

अब उसने मेरा फ़ोटो मांगा, तो मैंने दे दिया.
फिर उसने कहा कि मेरे पास रूम है, तुम आओगे?
मैंने हां कहा.

उसने पता देकर आने की कह दिया.
मैं वहां सिर्फ दस मिनट में ही पहुँच गया.

मैं उसे फोन लगाने ही वाला था कि मुझे याद आया कि उससे फोन नंबर तो लिया ही नहीं है.
मैं फिर से मोबाईल में फ़ेसबुक खोलने लगा कि उसकी प्रोफाइल में से उसका फोन नंबर निकाल सकूँ.

तभी एक मर्द मेरे सामने आया. उसने अपना चेहरा रूमाल से ढक रखा था.
वो बोला- तुम बॉटम हो?

मैंने हां कहा.
उसने कहा- मेरे पीछे आओ.
मैं उसके पीछे पीछे चल रहा था.

मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था कि कहीं वो मेरे साथ कुछ और गलत न करे.

फिर वो मुझे एक कमरे में ले गया.
मैं जैसे ही कमरे के अन्दर गया, उसने अन्दर से कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और मुझे कसके पकड़ कर मेरे होंठों को चूमने लगा.

मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि ये क्या कर रहा है. फिर कुछ देर बाद मुझे भी अच्छा लगने लगा.
मैं भी उसके होंठों को चूमने और चूसने लगा.

तभी वो बोला- जल्दी से अपने कपड़े उतारो. तुम बड़े नमकीन लौंडे हो.
मुझे उसकी नमकीन लौंडे वाली बात सुनकर बड़ा अच्छा लगा.

मैंने कहा- नमकीन अच्छा होता है या मीठा?
वो मेरी बात सुनकर सिर्फ हल्की सी हंसी हंस कर चुप ही रहा और खुद के कपड़े उतारने लगा.

मुझे उसकी चुप्पी से डर तो बहुत ज्यादा लग रहा था.
लेकिन जैसे ही मैंने उसका काला मोटा लंड देखा … तो मैं बस देखता ही रह गया.
मुझे लगा कि आज मैंने सब कुछ पा लिया है. अब मैंने फटाफट अपने कपड़े उतार दिए.

उसने मेरा गोरा चिकना बदन देखा, तो बोला- वाह क्या माल है.
फिर वो लेट गया और उसने मुझे इशारे से अपने पास बुलाया.

मैं उसके पास बैठ गया और उसके लंड को पकड़ कर सहलाने लगा. उसके लंड ने फन फैलाना शुरू कर दिया.

उसने मेरी तरफ वासना से देखा और इशारा किया कि मुँह में ले लो.
मैंने झट से लंड मुँह में ले लिया.
ऊऊम्म ऊऊम्म … मजा आ गया.
मैं न्यू गे बॉटम सेक्स का मजा लेने लगा.

मैं कभी उसके लंड को चाटता, तो कभी पूरा लौड़ा मुँह में लेने की कोशिश करता.
जब उसका लंड मैंने पूरा मुँह में लेने की कोशिश की तो उसने मेरा सर पकड़ लिया और जबरदस्ती अपना लंड मेरे गले में अन्दर डालने लगा लेकिन पूरा लंड नहीं गया.

ये देख कर उसने धीरे धीरे मेरे मुँह को चोदना शुरू कर दिया और कहा- अपने गले को ढीला कर लो.
जैसे ही मैंने मेरे गले को ढीला किया … उसने झटके से लंड को मेरे गले में उतार दिया और पूरी ताक़त लगाकर मेरे मुँह को चोदने लगा.

मैंने एकदम से उसके लंड को अपने मुँह से बाहर निकाला और खाँसने लगा.
फिर मैंने उससे कहा कि ऐसा दुबारा मत करना, मुझे साँस लेने में दिक्कत आती है.

दोस्तो, जब उसका मोटा लंड मेरे गले में उतरा था, तब तो ऐसा लगा था … जैसे उसने मेरा गला फाड़ दिया हो. मुझे खुद यकीन नहीं हो रहा था कि मैंने उसका लंड पूरा अपने हलक में उतार लिया था.

जब उसका लंड मेरे गले में था तो मेरा गला थोड़ा फूल गया था और उसने तभी मेरे गले को दबा दिया था.
इस वजह से मेरी तो जान ही निकलने वाली हो गई थी.

फिर उसने मेरी गांड चाटना शुरू कर दी. मुझे बड़ा मजा आने लगा था और बड़ी गुदगुदी हो रही थी.
उसने मेरी गांड में उंगली डाली, मुझे एकदम से दर्द हुआ और मैं उछल पड़ा.

फिर उसने कहा- क्या पहली बार ले रहा है?
तो मैंने कहा- हां.

उसने कहा- झूठ मत बोलना.
मैंने कहा- यही सच है, मैं पहली बार ले रहा हूँ.

फिर भी उसको मेरी बात पर यकीन नहीं आ रहा था. उसने अपने खड़े लंड को मेरी गांड के सुराख पर लगाया और एक जोरदार झटका लगा दिया.
ऊम्म्ममाह … उसके लंड का सुपारा मेरी गांड में घुस गया.

मैं तड़प उठा, लेकिन उसने अपने लंड को नहीं निकाला.
मेरी तो चीख़ निकल गई ‘आहह …’

फिर उसने गुर्रा कर कहा- गांड ढीली कर साले!
मुझे बहुत दर्द हो रहा था.

तभी उसने एक और झटका दे दिया और पूरा लंड अन्दर डाल दिया.
दर्द से मैं पागल हो रहा था. ऐसा मन कर रहा था कि वहां से भाग जाऊँ.

तभी उसने धक्के देना चालू कर दिए.

थोड़ी देर बाद मुझे भी मजा आने लगा.
लगभग बीस मिनट तक मेरी गांड मारी गई.

फिर उसकी स्पीड अचानक से ही बढ़ गई.
मैं कुछ समझ पाता, उसके पहले ही वो बोला- आह छूट गया.

मुझसे पूछे बिना ही उसने मेरी गांड में वीर्य छोड़ दिया.
लेकिन मैं उसके झटकों से इतना ज्यादा खुश था कि मैंने उसे कुछ नहीं बोला.

फिर उसने लंड को बाहर निकाला और बोला- बस .. या और भी कुछ करवाना है?

मैं बोला- मुझे वीर्य पीना था.
मेरी यह बात सुनकर वो खुश हो गया और उसने कहा- चल ठीक है. अब मेरे लंड को चूस.

मेरी गांड में से निकला हुआ लंड मैंने मेरे मुँह में ले लिया और चूसने लगा.

थोड़ी ही देर में उसका लंड फिर से खड़ा हो गया. उसने मेरे दोनों कानों को पकड़ा और मेरे मुँह को चोदने लगा.
थोड़ी ही देर में वो मेरे मुँह में झड़ गया और मेरे मुँह में खट्टा सा स्वाद आ गया.

फिर उसने कहा- अब अपने कपड़े पहन लो.

मेरी गांड में इतना दर्द हो रहा था कि मैं अपने कपड़े भी नहीं पहन पा रहा था.
जैसे-तैसे मैंने अपने कपड़े पहने और वहां से लंगड़ाता हुआ निकल गया.

तो दोस्तो, ये थी मेरी पहली बार गांड की ठुकाई, आपको कैसी लगी?
न्यू गे बॉटम सेक्स कहानी?
प्लीज कमेंट्स करें.

Check Also

चार लंड और मेरी अकेली गांड

गे सेक्स ग्रुप स्टोरी में पढ़ें कि मैं लड़कियों जैसा हूँ. मुझे ब्रा पैंटी पहनने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *