अन्तर्वासना पर मिली प्रेग्नेंट लड़की की चुदाई- 3

शीमेल पोर्न कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने एक शीमेल के साथ पहली बार सेक्स का अनुभव लिया. वो बहुत खूबसूरत लड़की थी पर लंड था उसका!

कहानी के दूसरे भाग
दो मस्त रंडियों को चोदा
में आपने पढ़ा कि

अमित- एक विदेशी शीमेल मिली है, कपल के साथ सेक्स करती है, दारू पीयेगी और कुछ पैसे लेगी।
उसने मुझे कुछ फोटो भेजी, फोटो देख कर कोई नहीं बोल सकता था कि ये शीमेल होगी या इसने लंड छुपा रखा है।
मैं- मुझे पूरी बात बताओ।
अमित- ये दीदी को चोदेगी, मैं और आप इसे चोदेंगे।
मैं- दीपिका से बात कर लो, अगर वो मानती हैं तो ले आओ।

अमित ने दीपिका को भी मना लिया।

शाम सात बजे अमित सोफी को लेकर आ गया, दीपिका उसके सामने फीकी पड़ रही थी।

34 साइज के चूचे, 25 साइज का नाजुक कमर, 36 का उभरा हुआ गांड।
सोफी 25-27 साल की होगी।
उसने जींस, शर्ट और हाई हिल की सैंडल पहन रखी थी।

दोस्तो, सोफी को हिंदी नहीं आती थी, सारी बातें इंग्लिश में हुई थी।

अमित ने सबका परिचय करवाया, उसने दीपिका को दीदी और मुझे जीजा बता दिया।
हम लोग सोफे पे बैठ के बात करने लगे.

दीपिका शराब की बॉटल ले आई, सोफी और दीपिका ने सबके लिए पैग बना दिया।

सोफी को दीपिका बहुत पसंद आ गई थी उसने दीपिका की बहुत तारीफ की और सबसे पहले उसके गाल और होंठों पे किस कर दिया।

हम चारों पीते पीते बात कर रहे थे.

सोफी ने अपने बारे में बताया कि उसे लड़के लड़की दोनों पसंद हैं, चुदना, चुदवाना, चुसना, चुसवाना सब पसंद है।
उसने मेरे चिकने साले अमित की गांड मारने की इच्छा जाहिर की लेकिन अमित ने मना कर दिया।

तब उसने दीपिका की भी गांड मारने की बात की तो दीपिका ने मेरे से गांड की सील तुड़वाने की बात बोल दी.
सोफी तैयार हो गई कि पहले मैं दीपिका की गांड चोदूंगा, फिर सोफी भी चोद लेगी।

बात करते हुए रात के दस बज गए थे, दारू भी खत्म हो गई थी।
दीपिका अपने कपड़े बदल कर सेक्सी सी नाइटी पहन कर आ गई।

दीपिका ने मुझे और अमित को शुरू करने को कहा.
मैंने सोफी के होंठ से होंठ चिपका दिया और किस करने लगा.

मैं भूल गया कि इसके पास लंड है.
मैंने दस मिनट तक उसके होंठों को चूसा और चूचों को दबाया।

तब मैंने उसके शर्ट को खोल दिया और मैं और अमित उसके एक एक चूचों को चूसने लगे, सोफी भी मजे ले कर चूची चुसवा रही थी।

चूची चूसते हुए मुझे आदत है कि चूत में सहलाने या उंगली करने की … मैंने जैसे ही सोफी की जींस का बटन खोल कर पैंटी में हाथ डाला, मुझे अहसास हुआ कि सोफी का लंड बहुत बड़ा और मोटा है।

मैंने जिंदगी में पहली बार लंड पकड़ा था वो भी विदेशी लंड, हवशी लंड जो चूत का भोसड़ा बना दे.
और मैं समझ गया आज दीपिका की चूत का भुर्ता बनेगा।

मैंने सोफी का जींस और पैंटी खोल कर उसे नंगी कर दिया, उसका 8 इंच का लंबा और 3 इंच मोटा, गुलाबी लंड देख कर दीपिका की फट गई।

दीपिका- इतना मोटा और लंबा कभी नहीं लिया है, मुझसे नहीं होगा।
सोफी- एक बार चुद के देखो, सबका लंड भूल जाओगी।

मैंने और अमित ने अपना लंड सोफी के मुंह में दिया और चुसवाने लगे।
हम लोग पूरे गर्दन तक लंड डाल कर चुसवा रहे थे।

सोफी- दीपिका डार्लिंग, मेरा लंड चूसो।

हमने सोफी को सोफे पे बैठा कर पोज बना लिया, मैं और अमित खड़े हो कर सोफी को लंड चुसवाने लगे.
दीपिका जमीन पर घुटने पे बैठ के सोफी का लंड चूसने लगी।

सोफी का आधा लंड ही दीपिका मुंह में ले रही थी।
पांच मिनट की चुसाई के बाद मैंने सोफी को डॉगी स्टाइल में कर के उसकी गांड में लंड पेल दिया, मैं उसके चूचों को दबाते हुए धक्के लगाने लगा।

सोफी- दीपिका डार्लिंग, मेरे मुंह के पास चूत फैला कर लेट जाओ।

दीपिका उसके सामने टांग फैला कर लेट गई, सोफी उसकी चूत चाटने लगी.
अमित भी दीपिका को किस करते हुए उसके चूचों को मसलने लगा।

दस मिनट गांड चोदने के बाद मैं झड़ गया, मैं बगल में लेट गया।

सोफी दीपिका को नीचे सरका कर खुद उसके ऊपर लेट गई और उसके चूत पे अपना लंड रगड़ने लगी।

उसने दीपिका को किस करते हुए, लंड को चूत के छेद पे रख के एक धक्का लगाया लेकिन लंड फिसल कर बाहर रह गया।
दीपिका के चेहरे का रंग उड़ा हुआ था लेकिन उसने हिम्मत कर के चूत पे लंड को सेट किया, सोफी ने धक्का लगाया और सुपाड़ा चूत में फंस गया।

दीपिका की आंखें बड़ी बड़ी हो गई, वो चीखती लेकिन सोफी ने उसके होंठों को अपने होंठ से बंद कर रखा था।
सोफी ने एक और धक्का लगाया और आधा लंड सोफी की चूत में उतार दिया.

दीपिका सोफी को धक्का दे कर हटाने लगी लेकिन हटा नहीं पाई।
सोफी हल्के हल्के लंड को अंदर बाहर करने लगी जिससे की दीपिका को थोड़ा आराम लगा और वो मजा भी लेने लगी।

सोफी ने अमित को गांड मारने के लिए बुला लिया.
अमित पीछे से पोज बनाते हुए सोफी की गांड मारने लगा।

सोफी- तुम जितना मजा लोगे, उतनी तेरी दीदी को मजा आएगा।
अमित के हर धक्के पे दीपिका की चीख निकलती.

धीरे धीरे 8 इंच के मोटे लंड ने चूत में जगह बना ली।
पांच से सात मिनट की चुदाई के बाद अमित भी झड़ गया और लेट गया।

सोफी- डार्लिंग घोड़ी बन जा, तेरी पीछे से सवारी करूंगी।
दीपिका घोड़ी बन गई।

सोफी- कोई इसके होंठ बंद करो, साली रण्डी ऐसे चीख रही हैं, जैसे पहली बार चुद रही है!
मैं दीपिका को किस करने लगा.

तब तक सोफी ने पीछे से चूत पे लंड लगाया और एक झटके में पूरा लंड चूत में उतार दिया।
दीपिका रोने लगी- मुझसे नहीं होगा, मुझे अब नहीं चुदना है।
सोफी- जितना दर्द होना था हो गया, अब मजे लो।

सोफी ने डॉगी स्टाइल में दीपिका को दस मिनट चोदा, जब वो झड़ने वाली थी तो दीपिका के चेहरे पे सब माल गिरा दिया।
कुछ वीर्य दीपिका ने पी लिया बाकी उसके चेहरे पे लगा हुआ था।

दीपिका को दर्द हो रहा था तो सोफी ने दीपिका के चूत में मुंह लगा दिया और बीस मिनट तक उसके चूत में जीभ डाल डाल कर चोदा और चूत को चूसा, दीपिका को बहुत आराम मिला।

अमित का लंड खड़ा होने लगा था तो उसने सोफी के मुंह में दिया और लंड को गीला करवा लिया।
तब सोफी को अमित ने बिस्तर ले लेटाया और उसके दोनों टांग को अपने कंधे पे रख लिया, और उसे किस करते हुए उसके गांड में लंड पेल दिया।

उसने दस मिनट तक सोफी की गांड मारी और थक कर लेट गया।

सोफी- आओ, दीपिका डार्लिंग का गांड का उद्घाटन किया जाए।
दीपिका- फिर कभी … मेरे में अब हिम्मत नहीं है।

सोफी- मेरे लंड से चुद के मजा नहीं आया क्या?
दीपिका- मजे से ज्यादा दर्द हुआ। मैंने कभी इतना लंबा मोटा लंड नहीं लिया था।
सोफी- अपने पति से गांड खुलवा लो, फिर मुझसे भी गांड मरवा लेना।

सोफी ने दीपिका को डॉगी स्टाइल में किया और उसके गांड को चाटने लगी।

दीपिका ने हिंदी में कहा- ये गंडमरी, आज मेरी गांड फाड़ के रहेगी, रवीश आज गांड मत मारो, तुम गांड चोद दोगे तो ये भी चोदेगी।
मैं- तुम गांड चटवा के मजा लो, जब मैं गांड में लंड डालू तब तुम गांड सिकोड़ लेना।

गांड को चाटते हुए सोफी उसमें 1 उंगली डालने लगी, थोड़ी देर के बाद उसने दो उंगली डालने लगी।
सोफी ने जीभ डाल कर गांड को गीला किया और उंगली से जगह बना दी की लंड घुस जाए और दीपिका को ज्यादा दर्द नहीं हो।

दीपिका ने कहा- साली ने गांड में खलबली मचा दी है, अब तो मुझे भी गांड मरवाने का मन है लेकिन इसका 8 इंच का लंड से डर लग रहा है।

सोफी ने मुझे बुलाया- आ जाओ, गांड तैयार है।
उसने मेरा लंड मुंह लिया और दो मिनट चूस के गीला कर दिया।

दीपिका डॉगी स्टाइल में थी, मैं उसके गांड पे लंड सेट कर के धक्का देने वाला था कि सोफी ने अपनी चूची उसके मुंह में दे दी।

मैं दीपिका की गांड में लंड डालने लगा तो उसने गांड को पूरा सिकोड़ लिया जिससे लंड नहीं घुसा।

सोफी ने दीपिका को बहुत समझाया लेकिन उसने हर बार गांड को सिकोड़ कर लंड घुसने नहीं दिया।
सोफी का मन उदास हो गया, उसने दीपिका को लंड चूसने को बोला।

दीपिका लंड चूसने लगी, दस मिनट लंड चूसने के बाद सोफी का लंड दोबारा से 8 इंच का हो गया।

“चल दीपिका डार्लिंग, तुझे अलग अलग पोज के मजे देता हूं। सब तरफ से चूत घिसेगी तब तुझे भी मजा आएगा।”

सोफी सोफे पे टांग फैला कर बैठ गई, वह दीपिका को सामने से अपने ऊपर बैठा कर कुदवाने लगी.
दीपिका भी किस करते हुए मजे ले कर कूदने लगी।

दो मिनट की चुदाई के बाद उसने दीपिका को घुमा दिया और दीपिका जमीन पर पैर रख के लंड पे उठक बैठक करने लगी।

2 मिनट के बाद सोफी उसे सोफे पे लेटा कर उसके एक पैर को कंधे पर रख कर उसकी चूत में लंड पेल कर चोदने लगी.

दीपिका की चूत ने मोटे लंड के लिए जगह बना ली थी।
वो अब कामुक आवाज निकाल कर चुद रही थी।

पांच मिनट की चुदाई के बाद सोफी और दीपिका बिस्तर पर आ गई.
दीपिका को सोफी ने करवट ले कर लिटा दिया और पीछे से उसकी चूत में लंड पेल दिया और धीमे धीमे चोदने लगी।

सोफी ने अपने हाथ से दीपिका का एक पैर हवा में उठा रखा था और मजे ले कर चोदती रही।

पांच मिनट के बाद सोफी ने दीपिका को पेट के बल लेटा दिया और उसके चूत के पास दो तकिया लगा दिया जिससे गांड उठ गयी और पीछे से चूत का छेद दिखने लगा।
सोफी ने दोनों को चिपका दिया और दीपिका की गांड पर बैठ कर लंड को चूत पर घिसने लगा।

चूत की पंखुड़ियां चिपक हुई दिख रही थी, सोफी ने छेद पे लंड सेट किया और धक्का लगाने लगा.
जांघ चिपकी हुई थी जिसके कारण चूत का मुंह छोटा हो गया था।

थोड़ी मेहनत के बाद सोफी ने चूत में लंड पेल दिया और पूरी तेजी में चोदने लगी।

दीपिका- प्लीज टांग फैला कर चोदो, बहुत दर्द हो रहा हैं।
सोफी- थोड़ी देर दर्द बर्दाश्त कर लो, फिर कभी दर्द नहीं होगा।

दस मिनट तक ताबड़तोड़ चुदाई के बाद सोफी झड़ने को हुई तो उसने दीपिका के मुंह में मुठ मारी और सारा माल उसके मुंह पे गिरा दिया।
उसने दीपिका को किस किया और गुड नाईट बोल कर सो गई।

हम चारों एक ही बिस्तर पे नंगे सो गए।

सुबह आठ बजे सबकी नींद खुली तो अमित ने सोफी को लंड चुसा के उसकी गांड मारी फिर उसे उसके होटल तक पहुंचा दिया।

दीपिका- साली गंडमरी, सोफी ने चूत का भोसड़ा बना दिया।
मैं- अब तो दो लंड एक साथ चूत में घुस जाएंगे।

दीपिका- रात में कोशिश करना कि तुम्हारा और अमित का एक साथ घुस जाए।
मैं- आज तुम्हें चोद कर कल चला जाऊंगा।
दीपिका- ठीक है।

रात में हमने बाहर से खाना और दारू का इंतजाम कर लिया.
अमित ने मुझसे रण्डी का पूछा तो मैंने मना कर दिया।

दीपिका थोड़ी उदास हो गई थी.
मैंने उससे बात की और उसे रांची आने के लिए बोला, वो मान गई।

रात में हम तीनों ने पार्टी शुरु की, शराब पी, डांस किया।
दस बज चुके थे, दीपिका ने कस कर मुझे गले लगाया और किस करने लगी।
मैं भी दीपिका का साथ देने लगा, दोनों एक दूसरे के होंठों को पीने लगे।

किस करते हुए मैंने दीपिका की नाइटी और ब्रा खोल दी।
पीछे से अमित दीपिका के पीठ को किस करने लगा और चूचों को दबाने लगा।

मैंने गांड को मसलते हुए उसकी पैंटी को खोल कर नंगी कर दिया।
दीपिका ने घुटने पे बैठ कर दोनों का लंड चूसा.

फिर मैंने दीपिका के पर्स से वेसलीन का डब्बा उठाया, दीपिका मेरा मूड समझ गई।

दीपिका- कोई मेरी गांड चाट कर गीली करो, कल गांड चटवा कर मुझे बहुत मजा आया है।
मैं- गांड नहीं चाटूंगा, वेसलीन लगा कर उंगली करता हूं, उससे गीली हो जाएगी।

दीपिका- भाई, प्लीज मेरी गांड चाटो, जीभ से गांड चोदो।
अमित- मुझसे नहीं होगा दीदी, सोच कर ही उल्टी आ रही है।

दीपिका- मैं बाथरूम से फ्रेश हो कर आती हूं, अच्छे से साफ कर के आती हूं, उसके बाद तुम कोशिश करो। अच्छा नहीं लगे तो मत चाटना।

वह उठ कर बाथरूम चली गई।

दस मिनट के बाद दीपिका बाथरूम से आई बिस्तर पर लेट गई और बोली- भाई, शुरु हो जाओ।
अमित ने मुंह बनाते हुए दीपिका की गांड पे मुंह लगा दिया.

उसने छेद के अगल बगल जीभ से चाटना शुरू किया। उसने गांड को मसलते हुए, दांत से भी काटा।

अमित ने हिम्मत कर के गांड की छेद पे जीभ फिराया तो दीपिका की आह निकल गई।

अमित- बहुत ही गंदा लग रहा है, मुझसे नहीं होगा।
दीपिका- भाई, एक बार कोशिश तो कर, मुझे भी तेरा लंड चूसना पसंद नहीं है लेकिन चूसती हूं ना!

अमित कुछ बोल नहीं पाया, उसने फिर से दीपिका के छेद को चाटना शुरू किया।
दो मिनट गांड चाटने के बाद अमित दौड़ कर बाथरूम गया और उल्टी करने लगा।

मैं और दीपिका भी बाथरूम गए, अमित को उल्टी करवाया, उसे कुल्ला करवा के बिस्तर पे आ गए।

मैं- ऐसे ही गांड मरवा लो, वेसलीन से काम बन जाएगा।
दीपिका- ठीक है।

वह डॉगी स्टाइल में हो गई।
दीपिका की गांड पर मैंने वेसलीन लगा दी और अपनी उंगली पर वेसलीन लगा कर गांड में अंदर बाहर करने लगा।

एक उंगली को दीपिका आसानी से गांड में ले रही थी।

मैंने दो उंगली पर वेसलीन लगा कर गांड में घुसाया, दीपिका को थोड़ा दर्द हुआ पर उसने सह लिया।
दस मिनट तक मैं गांड में कभी एक कभी दो उंगली घुसा कर अंदर बाहर करता रहा।

दीपिका- मैं तैयार हूं, अब लंड डाल दो।
मैंने काफी वेसलीन लंड पर लगा ली, लंड पूरा चमकने लगा।

“पैर थोड़ा फैला कर गांड को ढीला छोड़ दो।”
दीपिका ने वैसा ही किया।

मैंने उसकी कमर को टाइट से पकड़ा और गांड के छेद पे लंड को सटा दिया।
दीपिका- थोड़ा आराम से डालना, बहुत दर्द होता हैं।
मैं- ठीक है।

मैंने धक्का लगाया तो लंड फिसल गया.

तब मैंने अमित को बुलाया और गांड को दोनो हाथ से फैलाने को बोला.
इससे छेद थोड़ी फैल गया और सामने से दिखने लगा।

मैंने फिर से लंड को छेद पे लगाया और धक्का दिया इस बार सुपारा गांड में फंस गया।

दीपिका की चीख निकल गई और वो रोने लगी।
अमित- जीजू, सील टूट गई। बाकी का लंड भी एक चोट में पेल दो।

दीपिका- थोड़ा रुक कर डालना, मेरे आंखों के सामने अंधेरा छा गया है।

मैं दीपिका की पीठ को किस करने लगा और अमित को होंठ पे किस करने को बोला तो वो होंठ को चूसने लगा।

दस मिनट के बाद दीपिका बोली- हल्के हल्के लंड को अंदर बाहर करो।
मैं धीरे धीरे लंड को अंदर बाहर करता रहा.
धीरे धीरे पूरा लंड गांड में घुस गया.

मैंने दस मिनट तक हल्के धक्कों से गांड की चुदाई की और गांड में ही झड़ गया।
जब मैंने लंड बाहर निकाला तो लंड पे हल्का खून लगा हुआ था

दीपिका- आ जा भाई, तू भी अपनी बहन की गांड चोद ले।

अमित उसे बिस्तर पर लेटा कर उसके चढ़ गया और गांड में एक बार में पूरा लंड पेल दिया।
दीपिका को थोड़ा दर्द हुआ लेकिन उसने सह लिया।

दस मिनट गांड चोदने के बाद अमित भी झड़ गया।

हम तीनो ने थोड़ा आराम किया।

उसके बाद हमने दीपिका को सैंडविच बना कर दोनों साइड से चोदा, अमित ने उसकी चूत और मैंने उसकी गांड मारी।
दीपिका ने मजे ले कर दो लंड एक साथ लिये।

उसकी चूत का भोसड़ा हो चुकी थी, मेरे और अमित के लंड से उसे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था।
उसके बाद मैंने चूत और अमित ने गांड मारी।

हम तीनों नंगे ही बिस्तर पर सो गए।

अगले सुबह मैंने फिर से दीपिका की चूत और गांड चोदी।
दस बजे मैं वहाँ से निकल गया, दीपिका मुझे छोड़ने आई।
उसने मुझे वादा किया कि जब भी वो मां बनेगी, मुझे अपना दूध पिलाएगी।

दो बजे मैं अपने शहर रांची आ गया।

चार महीने के बाद दीपिका रांची आई, मैंने उसके कहने पे उसे सात मर्दों के साथ ग्रुप सेक्स करवाया।
सबने मिल कर उसकी चूत और गांड का भोसड़ा बना दिया।

दोस्तो, मेरी कहानी कैसी लगी मेल कर के जरूर बताएं।
[email protected]

Check Also

छह मर्दों ने मुझे चोदकर प्रेगनेंट किया

Xxx ग्रुप सेक्स कहानी में मैं अपनी सहेली की बहन की शादी में गयी तो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *