सेक्सी चाची ने मुझे पटा कर चुदाई करा ली

देसी चाची चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी चाची के साथ दोस्ती हुई, उन्होंने अपनी कामुक बातों से मुझे सेक्स के लिए गर्म किया. फिर मैंने चाची के साथ सेक्स किया.

दोस्तो, मेरा नाम आदित्य है और मैं अहमदाबाद में रहता हूँ।
यह कहानी तब की है जब मैंने अपनी चाची को पहली बार चोदा था।

तो चलिए बिना समय गंवाए में आपको देसी चाची चुदाई कहानी बताता हूँ।

मैं 21 साल का एक जवान लड़का हूँ, मेरी पढ़ाई अभी खत्म हुई है और अभी मैं फैमिली बिजनेस में लग गया हूँ।
मैं बहुत स्मार्ट दिखाता हूँ, और मेरा लंड 6.5 इंच का है।

मेरी चाची की उमर तकरीबन 42 साल होगी, उनका 1 बेटा है और वो अभी स्कूल में है।
चाची दिखने में बहुत ही सुंदर और गोरी है, पहली नजर में किसका भी लंड खड़ा कर दे, उनके बूब्स शायद 34″ के होंगे और उनका फिगर भी बहुत अच्छा है।

पहले मेरी नजर चाची को लेकर खराब नहीं थी, पर कुछ ऐसी घटनायें हुई कि मेरा मन उनको चोदने का हो गया।
मेरे चाचा पूरा दिन बिजनेस को लेकर बैठे रहते हैं।

एक बार में चाचा के साथ ऑफिस में था. तभी हल्की हल्की बारिश गिरने जैसा मौसम था.

चाची का कॉल चाचा को आया।

फिर चाचा ने मुझे कहा- तू जल्दी से मेरे घर पे जा, तेरी चाची की तबियत खराब है और बारिश हो रही है तो वो बाहर नहीं जा सकती. उन्हें कुछ काम है और आज आयुष भी घर पे नहीं है।

तो मैं जल्दी से चाचा के घर गया, रास्ते में ही मैं आधा भीग चुका था.
मैं उनके घर पहुंचा, फिर अंदर गया और चाची को ढूंढने लगा.

चाची किचन में नहीं थी तो मैं उनके बेडरूम में गया।

मैंने देखा कि चाची की तबियत सच में खराब थी.
तब मैंने उनको चैक किया और बोला- चाची, आपकी तबियत तो सच में ज्यादा खराब है, आप डॉक्टर के पास क्यों नहीं गई?
चाची ने कहा- तेरे चाचा नहीं ले गए, उनको ऑफिस जल्दी जाना था इस लिए!

मैंने फिर उनको पूछा- बोलिए, क्या काम था?
चाची ने कहा- ऊपर छत पे जो कपड़े सुखाने डाले हैं, वो ले आओ।

मैं जल्दी से जाकर कपड़े ले आया.
फिर मैंने उनको कहा- चाची, आप मेरे हाथ की गर्मागर्म चाय पीजिए आपको अच्छा लगेगा।

चाची ने पहले तो मना किया फिर मान गई.
तो मैं किचन में चाय बनाने के लिए गया।

चाय बनाकर मैंने चाची को दी और खुद भी ली.

फिर चाची ने कहा- थैंक यू, मुझे सच में अच्छा लग रहा है।
मैंने कहा- देखा, मेरे हाथों में जादू है।

फिर हम दोनों हंसते हंसते चाय पीने लगे.
चाय खत्म होने के बाद मैं जा रहा था.
तब चाची ने कहा- रुक जा ना थोड़ी देर! अभी तक बारिश हो रही है बाहर भीगते हुए कैसे जाएगा?

मैंने भी सोचा कि भीगने से अच्छा है यहीं पर थोड़ी देर रुक जाता हूँ।

फिर हम दोनों रूम में बैठे बैठे बातें करने लगे।
मैं पहले ही भीग गया था तो चाची ने देखा कि मेरी टी-शर्ट थोड़ी सी गीली है।

चाची ने मुझे कहा- ऐसे गीली टीशर्ट क्यों पहने बैठा है? वहाँ से अपने चाचा की टीशर्ट पहन ले।
मैंने कहा- नहीं चाची, मैं ऐसे ही ठीक हूँ।
चाची- क्या ठीक है! मेरी तरह बीमार होना है क्या तुझे भी? चल जल्दी से पहन ले।

फिर मैंने चाचा की टीशर्ट ली और दूसरी रूम में चेंज करने के लिए जा रहा था.

तभी चाची बोली- यहीं पर बदल ले, मैं आंखें बंद कर लूंगी।
मैंने कहा- नहीं चाची, ऐसी कोई बात नहीं है।
चाची- तो क्या आंखें खुली रखूँ?
मैं- आपको जो करना हो वो करो!

हम दोनों हंस दिए.
फिर मैं दूसरी तरफ घूम गया और अपनी टीशर्ट निकालने लगा.

तभी मैंने बेड के आगे वाले मिरर में देखा कि चाची मुझे बहुत कामुक नजरों से देख रही हैं.
उन्हें देखने के बाद मेरा भी मन ना चाहते हुए उन्हें कामुक नजर से देखने लगा।

फिर मैंने जल्दी से टीशर्ट चेंज कर ली और जाकर चाची के बगल में बैठ गया।

हमने यहाँ वहाँ की बातें की. उन्होंने बीच में मुझसे यह पूछा कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं।
मैंने कहा- नहीं है मेरी कोई गर्लफ्रेंड … मैं सिंगल हूँ अभी तक!

फिर उन्होंने मुझे गर्म पानी मंगवाया.
मैं किचन में गया और उनके लिए पानी गर्म करके ले आया।

फिर उनको चैक करने के लिए मैंने उनके गले पे हाथ रखा और वो एकदम से हिल गई।

मैंने पूछा- क्या हुआ चाची?
शायद उनको बहुत समय बाद किसी मर्द ने छुआ होगा, इसीलिए उनकी आह निकल गई।

चाची ने कहा- कुछ नहीं हुआ।
मैंने कहा- ठीक है चाची, पर आप अभी बहुत हॉट हो।
चाची चौंक गई और बोली- क्या?
मैंने कहा- मेरा मतलब है आपको बुखार ज्यादा है।

चाची- मैं तो कुछ और समझी थी।
मैंने कहा- आप क्या समझी?
चाची ने कहा- अरे बुद्धू, मुझे लगा तू मुझे कॉम्प्लीमेंट दे रहा है।
मैंने कहा- नहीं चाची, मैं आपको कॉम्प्लीमेंट कैसे दे सकता हूँ।

चाची ने कहा- क्यूं, मैं इतनी बुड्ढी लगती हूँ क्या तुझे?
मैंने कहा- नहीं चाची, आप तो अभी भी जवान हो, कोई नहीं बता पाएगा कि आपका एक 15 साल का बेटा भी है।

चाची ने कहा- अच्छा, फिर कॉम्प्लीमेंट देने से क्यू डर रहा था?
मैं- मुझे लगा आप डांटोगी।
चाची- अरे पागल, इतना शर्माएगा तो आगे कुछ नहीं कर पायेगा।
मैंने पूछा- आगे मतलब?

तभी चाचा आ गए और सीधा रूम में आए.
हमारी बात अधूरी रह गई और मैं सोच में ही रह गया।

फिर कुछ देर बाद मैं अपने घर चला गया.

पर मुझे वो चाची की आगे वाली बात बार बार याद आ रही थी. मैंने सोचा कि जब भी चाची से मिलूंगा तो जरूर पूछँगा.

फिर 2 दिन बाद चाचा ने बताया कि अब चाची बिलकुल ठीक हो चुकी हैं.
तभी मुझे याद आया कि यह आगे वाली बात चाची से पूछनी पड़ेगी।

मैंने चाची को मैसेज किया- ये आगे क्या होता है?
चाची का रिप्लाई आया- अरे, तू अभी तक यही सोच रहा है? तू एक काम कर, अभी तू फ्री हो तो मेरे घर आ जा. मैं बताती हूँ! और अपने चाचा को मत बताना कि तू घर आ रहा है।
मैंने कहा- ठीक है, मैं आ रहा हूँ।

फिर मैं चाचा को बहाना करके निकल गया वहां से और सीधा चाची के घर गया।
घर पर चाची अकेली ही थी, आयुष स्कूल गया था।

मैं चाची को आवाज लगाते लगाते उनके बेडरूम में चला गया।

चाची वहाँ बेड पे बैठी थी और उन्होंने पिंक कलर की साड़ी पहनी थी.
मैं तो उनको देखता ही रह गया.

उन्होंने बाल खुले रखे थे और लिपस्टिक भी लगायी हुई थी.
उनका ब्लाउज बहुत छोटा था तो मुझे उनकी बॉडी ज्यादा दिख रही थी।

मुझे घूरता देख चाची ने बोला- ऐसे क्या देख रहा है, पहले कभी साड़ी में लड़की नहीं देखी?
मैंने कहा- आपसे खूबसूरत तो कोई नहीं देखी।
वो थोड़ा सा हंस पड़ी और मुझे खींच कर बेड पे ले गई और बिठा दिया।

अब मैं पूछने लगा- वो आगे वाली बात क्या थी?
तो चाची ने कहा- अरे बुद्धू, मैं चुदाई की बात कर रही थी।

‘चुदाई’ शब्द सुनते ही मैं तो चौंक गया, मैंने इस तरह से चाची के मुख से चुदाई शब्द एक्सपेक्ट नहीं किया था।

मुझे चौंका हुआ देख चाची ने पूछा- क्यू कभी तूने सेक्स नहीं किया?
मैं होश में आकर बोला- नहीं चाची, मैं बस विडियो ही देखता हूँ।

चाची- अच्छा मतलब तू अभी भी वर्जिन है।
मैंने कहा- हाँ चाची।
फिर चाची ने कहा- उसमें क्या है किसी से भी कर ले. तुझे कौन मना करेगी।

यह सुनकर मेरी हिम्मत बढ़ गई, अब मुझे चाची को चोदना ही था.
तो मैंने चाची को बिना डरे पूछ लिया- किसी दूसरी लड़की को कहाँ ढूंढने जाऊं … अगर आप कुछ मदद कर दो तो …

इतना सुनते ही उन्होंने मुझे करीब खींच लिया और मुझे एक छोटी सी किस कर दी.
शायद वे मेरी ही हाँ की प्रतीक्षा कर रही थी।

फिर मैं भी उनके करीब हो गया और अच्छे से किस करने लगा.
5 मिनट बाद हम किस करके अलग हुए।

चाची बहुत खुश लग रही थी.
मेरी तो जैसे लॉटरी लग गई थी.

फिर हम दोनों ने एक दूसरे को देखा और ब्लश करने लगे।

चाची बोली- बस किस ही करेगा क्या?
मैंने कहा- नहीं, आज तो पूरा मजा उठाऊंगा।
चाची ने कहा- तो फिर जल्दी आ जा!

चाची बेड पे लेट गई और मैं उनके ऊपर आ गया.
फिर से मैं उनके होंठों को चूम रहा था और वो मेरा साथ दे रही थी.

अब मैं धीरे धीरे उनके गले पे किस कर रहा था और कभी कभी वो मेरे गले पे किस कर रही थी।

अब मैंने उनकी साड़ी का पल्लू खींचा और पूरी साड़ी निकाल दी.
अब चाची मेरे सामने ब्लाउज और पेटिकोट में पड़ी थी.

मैंने जल्दी से उनका ब्लाउज भी निकाल दिया.
ब्लाउज निकलते ही मैं चौंक गया, ब्रा में छिपे हुए उनके बूब्स बहुत बड़े थे.
सफेद ब्रा पहने मेरी चाची मेरे सामने पड़ी थी।

फिर से मैं उनके ऊपर आ गया और ब्रा के ऊपर से ही मैं उनके मम्मे दबाने लगा और किस किए जा रहा था।
वे भी मेरा बहुत अच्छी तरह साथ दे रही थी।

मैंने अब ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मे चूसना शुरू कर दिया और दूसरे हाथ से दबा रहा था।

फिर मैंने उनकी ब्रा जैसे ही निकाली, दोनों बूब्स जैसे आजाद हो गए हों, वैसे हिल गए।
मैंने उनके निप्पल को चूसना शुरू किया.
वे ‘अम्मम्म … आह्ह्ह्ह …’ की आवाजेन कर रही थी।

मैंने दोनों बूब्स को अच्छे से चूस लिया।
फिर मैंने अपने कपड़े भी निकाल दिए और बस अंडरवियर में आ गया।

वे भी मेरा लंड जल्दी से देखना चाहती थी इसलिए उन्होंने खुद मेरी अंडरवियर उतार दी.
अब मैं उनके सामने पूरा नंगा था।

चाची मेरा लंड देख के खुश हो गई और बोली- तेरे चाचा से तो काफी बड़ा है तेरा!
फिर मैंने कहा- फिर देर क्यों कर रही हो मेरी जान, अपना बना लो इसे!

फिर उन्होंने मेरा लंड हाथ में लिया, थोड़ी देर हिलाया और फिर मेरे कहे बिना ही अपने मुंह में ले लिया.
मैं तो सातवें आसमान पे पहुंच गया था।

चाची बहुत मस्ती से मेरा लंड चूस रही थी.
उन्होंने 10 मिनट तक मेरा चूसा होगा और मेरी आंखें धीरे धीरे बंद होने लगी।
मैंने कहा- चाची, मैं झड़ने वाला हूँ.
पर फिर भी उन्होंने मेरा लंड अपने मुंह से बाहर ना निकाला.

मैंने उनका सिर जोर से पकड़ा और लंड के ऊपर दबा दिया और झड़ गया।
मेरा सारा माल चाची पी गई।

फिर उन्होंने मेरा लंड अपनी जीभ से साफ़ किया और मेरे साथ लेट गई।

उन्होंने कहा- बहुत अच्छा है तेरा माल … मुझे बहुत पसंद आया।
मैंने कहा- फिर मुझे भी तो चखाइए आप अपना माल!

फिर उन्होंने खुद से ही अपना पेटीकोट उतार दिया और सिर्फ चड्डी में आ गई।

अब मैंने उनकी पैंटी थोड़ी नीचे की और देखा.
मैंने पहली बार किसी असली चूत को देखा था. पोर्न वीडियो में खूब जवान चूत देख रखी थी मैंने!

उनकी चूत तो एकदम जवान लड़कियों जैसी दिख रही थी। बाल नहीं थे, मतलब आज ही शायद उन्होंने शेविंग की होगी मुझसे चुदावाने के लिए।

मैंने बिना देरी किए एक उंगली उनकी चूत में डाल दी और एक साथ से उनके बूब्स दबा रहा था।
फिर मैंने अपना मुंह उनकी चूत पे लगा दिया और चूत चाटने लगा।

क्या मस्त स्वाद आ रहा था चाची की चूत का!
वो भी ‘अम्म्म … आह्ह्ह … आह्ह ह …’ की आवाज निकाल रही थी और मैं मजे से चूत को चाट रहा था।

5 मिनट तक ऐसे ही चाटने के बाद मुझे कुछ नमकीन स्वाद आया तो मैं समझ गया कि चाची झड़ चुकी हैं।

मैं उनका सारा पानी पी गया और उनके ऊपर ही लेट गया।

उन्होंने कहा- तू बहुत अच्छी तरह चूत को चाटता है।
मैंने कहा- बस मैंने विडियो में देखा था कि कैसे चाटते हैं।
उन्होंने पूछा- क्या तूने ‘चोदते कैसे हैं’ ये नहीं देखा?
मैंने कहा- देखा है ना!

चाची ने कहा- फिर चोद ना मुझे जल्दी से! और मत तड़पा तेरी रानी को!
मैंने कहा- चल फिर पैर फैला दे अपने मेरी रण्डी!

उन्होंने जल्दी से अपनी टांगें फैला दी और मैं अपना लंड लेकर उनकी चूत पे आ गया.
मैंने लंड उनकी चूत पे सेट किया और एक धक्का दिया.

धक्का देते ही मेरा आधा लंड उनकी चूत में चला गया और वो ‘आह्ह … उई मां … मर गई रे …’ करके चिल्ला दी।

मैंने कहा- मजा लेना है तो दर्द तो होगा ही ना मेरी जान!
चाची ने कहा- इतना बड़ा लंड लेने की आदत नहीं है ना मुझे, तेरे चाचा का तो बहुत छोटा है!

फिर मैंने एक दूसरा धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उनकी चूत चीरता हुआ अंदर चला गया।
इस बार मैं भी जोर से चिल्ला दिया।
घर में कोई नहीं था इस लिए टेंशन की कोई बात नहीं थी।

फिर मैंने धीरे धीरे धक्के लगाना शुरू किया.
चाची भी अब मेरा साथ देने लगी, वे भी अब मजे से चुदवा रही थी।

मैंने फिर अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और जोर जोर से लंड अंदर बाहर करने लगा।
पूरे रूम में बस ‘आह्ह … आआह्ह … आह्ह …’ की गूंज सुनाई दे रही थी.

5 मिनट ऐसे ही चुदवाने के बाद चाची बोली- मुझे तेरे ऊपर आ जाने दे, मेरी पीठ दर्द कर रही है।

फिर मैं नीचे आ गया और चाची मेरे ऊपर बैठ गई.
फिर उन्होंने अपनी चूत पे मेरा लंड सेट किया और लंड पे ही बैठ गई.

चाची मेरे ऊपर उछल रही थी, मैं नीचे मजा ले रहा था और मजे से चोद रहा था।
मैं उनके दोनों बूब्स को एक साथ दबा रहा था और वो भी नीचे झुक के अपने बूब्स मेरे मुंह में दे रही थी और बीच बीच में किस कर रही थी।

ऐसे ही 10 मिनट तक चोदने के बाद मैंने चाची को कहा- मैं झड़ने वाला हूँ।
चाची बोली- अंदर ही निकल जा, वैसे भी कोई प्राब्लम नहीं होगी।

फिर थोड़ी देर बाद मैं अंदर ही झड़ गया और चाची भी झड़ गई और ऐसे ही मेरे ऊपर लेट गई.

उन्होंने मुझे किस किया और थैंक यू बोली।
मैंने कहा- थैंक यू क्यों?
चाची ने कहा- मैं पिछले 4 महीने से चुदी नहीं थी।
मैंने कहा- क्यों? चाचा नहीं चोदते आपको?
चाची- नहीं!

मैंने कहा- इतनी सेक्सी पत्नी होने के बावजूद नहीं चोदते।
चाची ने कहा- उनको मेरी जवानी की कद्र नहीं है।

मैंने कहा- कोई बात नहीं, अब मैं हूँ ना … जब भी मन करे, मुझे बुला लेना, और मेरा मन हो तब भी मुझे आप चूत देंगी.
चाची ने कहा- अब से ये चूत तेरी ही है. जब भी तेरा मन करे, आ जाना और चोद लेना मुझे … मैं हमेशा तेरे लंड के लिए तैयार हूँ।

फिर मैंने कहा- फिर एक बार और लंड पे किस कर दीजिए!
उन्होंने मेरा लंड अपने हाथ में लिया और एक बार फिर से चूस दिया और लंड पे किस करी।

फिर हमने कपड़े पहन लिए.

चाचा के आने का टाइम हो गया था तो मैं भी चला गया।

अब जब भी मुझे मन करता है तो अपनी चाची को कॉल कर लेता हूँ और देसी चाची चुदाई कर देता हूँ।

दूसरी बार मैंने उनको स्विमिंग पूल में चोदा था. उसकी कहानी भी आपको सुनाऊंगा।

आशा करता हूँ कि मेरी देसी चाची चुदाई कहानी आपको पसंद आई होगी।
[email protected]

Check Also

मेरी बीवी अपने भाई से चुदने लगी थी

मेरी बेवफा बीवी ने मेरे ही घर में अपने ही भाई से सेक्स का मजा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *