लड़की को फ़ेसबुक से बिस्तर तक लाने की हिंदी सेक्सी स्टोरी

दोस्तो, मेरा नाम वंशी है, मैं बरेली, उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ, काफी समय से अन्तर्वासना की हिंदी सेक्सी स्टोरी पढ़ रहा हूँ।
मेरी लम्बाई 5 फुट 10 इंच, उम्र 22 साल, लंड 6 इंच लंबा और 2’5 इंच मोटा है।

यह मेरे पहले सेक्स की कहानी है और पहली बार यहाँ कहानी शेयर कर रहा हूँ।

दोस्तो, मैं शुरू से ही सेक्सी ब्ल्यू फिल्म देखकर मुट्ठी मारता आ रहा हूँ। सेक्स और रोमांस मेरे अंदर कूट कूट कर भरा है। जब भी कोई मोटी गांड और स्तनों वाली लड़की देखता हूँ तो लंड तुरंत सलामी देने लगता है।
लेकिन मैं कभी पैसों वाला सेक्स नहीं चाहता था, मेरा मन था कि जब भी सेक्स करूंगा तो गर्लफ्रेंड के साथ ही करूंगा।

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ।
बात एक साल पहले की है जब मेरा गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप हुआ तो मैं बहुत उदास और अलग रहने लगा क्योंकि हमने साथ मिलकर बहुत मस्ती और रोमांस किया था लेकिन कभी सेक्स नहीं किया।

फिर मैं अपना अधिक समय फेसबुक पर बिताने लगा, अक्सर लड़कियों को फ्रेंड रिस्वेस्ट भेजता रहता था।
एक दिन एक पारूल नाम की लड़की का मैसेज आया और हम नार्मल बातें करने लगे। लेकिन कुछ देर के बाद मुझे लगा कि मेरा कोई दोस्त मुझे परेशान कर रहा है।

मैंने उससे फोन नंबर मांग लिया, उसने तुरंत ही नंबर दे दिया। मैंने काल की तो बहुत ही क्यूट आवाज में लड़की बोली, आवाज सुन कर लंड महाराज सलामी देने लगे क्योंकि दिमाग ने अपना काम करना शुरू कर दिया था।
मन से तुरंत एक आवाज आई ‘यह कोई लंड की प्यासी है और चुदवाना चाहती है।’

मैं दिखने में स्मार्ट हूँ और फेसबुक ने काफी अच्छे फोटो डाल रखे हैं। फिर मैंने उससे पूछा- क्या मैं तुमको अच्छा लगता हूँ?
उसने कहा- बहुत!
तो मैंने पूछा- आई लव यू… बोलने का मन करता है?
तो बोली- हाँ!
मैंने कहा- तो बोल दो!

उसने बहुत प्यार से ‘आई लव यू’ बोला, मेरी खुशी का ठिकाना न रहा, मैंने तुरंत उससे कहा- मैं तुम्हें देखना चाहता हूँ कि तुम कितनी क्यूट हो बेबी?

तो दूसरे दिन ही उसने एक जगह बताई और कहा- कोचिंग जाते टाईम देख लेना।
दूसरे दिन मैं बताये पते पर जाकर खड़ा हो गया और इंतजार करने लगा। वो आई होगी लेकिन मिली नहीं, उसका फोन आया, बहुत घबराहट में थी, बोली- मैं जा रही हूँ!
और फोन कट गया।

मैं भी गुस्से में अपने घर की तरफ चल दिया।
कुछ देर बाद उसकी काल आई, उसने सॉरी बोला और दो दिन बाद मिलने का वायदा किया, बोली- जहाँ बुलाएँगे, वहाँ आ जाऊँगी।

तो मैंने उसे एक मॉल में बुलाया और जब मैंने उसे देखा, वो बिल्कुल सेक्सी माल लग रही थी, नाटे कद की कट स्लीव टाप में आई थी।
फिर मैंने कोने की सीट के दो टिकट लिये और हम जाकर बैठ गये।

फिल्म शुरू होते ही मैंने अपने बायें हाथ से उसका दायाँ हाथ पकड़ लिया और अपने पैरों पर रखकर सहलाने लगा। उसने कोई भी विरोध नहीं किया तो मैंने एक हाथ उसके गले में डाल दिया।
वो भी मेरे हाथ पर हरकत करने लगी तो मैंने उसका चेहरा अपनी तरफ खींच के गाल पर और कान के नीचे किस करने लगा।

वो सिसकारियाँ लेने लगी और मुझे अपनी तरफ खींचने लगी।
मेरा लंड पैंट फाड़ कर बाहर आने को बेताब था, मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रख दिये और होठों का रस पीना शुरू कर दिया और एक हाथ उसके स्तनों पर रख कर मसलना शुरू कर दिया और दूसरा हाथ केपरी के ऊपर से ही चूत रगड़ने लगा।
अब उसके मुँह से बड़ी मस्त आवाजें निकल रही थीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… मम अहह सी…’

मैं लगातार उसके होठों और गरदन पर किस किए जा रहा था और चूचियों को मसलते जा रहा था और वो ‘ओओ ओह… ओओ अहह एससस सीसी किए जा रही थी।

मेरा मन कर रहा था कि अभी लंड को निकाल कर इसे नंगी करके डोगी स्टाइल में यहीं चोद दूँ। फिर मैंने अपनी चेन खोल के लंड महाराज को बाहर निकाला और रूमाल से ढक दिया और पारूल से पकड़ने को कहा। उसके पकड़ते ही लंड और ज्यादा तन गया।

फिर मैंने उसकी ब्रा को लूज किया और टॉप के ऊपर गले से निप्पल निकाल के अपने मुँह में भर लिये। मैं एक हाथ से उसकी फुद्दी रगड़ रहा था।उसने भी मेरे लंड को हिलाना शुरू कर दिया, तो दोनों जन्नत की सैर कर रहे थे।

उसकी सांसों और आहों में गरमाहट बढ़ती ही जा रही थी। मौका देखते ही मैंने उसकी पैंट का बटन खोल दिया और हाथ की एक उंगली उसकी चूत के छिद्र पे रख के हिलाना शुरू कर दी।
फिर वो अहह ऊऊऊमम ओओओओओओ बेबी अहह कहते हुए अकड़ने लगी और मैंने भी उसे लंड के सुपारे को जल्दी जल्दी हिलाने को कहा।

कुछ ही पलों में हम साथ साथ झड़ गए। फिर रूमाल से सब साफ किया और माथे पे किस किया।
फिल्म खत्म होने के बाद जल्द ही मिलने का वायदा करके अपने अपने घर चले गए।

फिर तो लंड उसकी चूत मारने को बेचैन रहने लगा। फिर वह दिन भी आ गया जब वह चुदने के लिए मेरे रूम पर आई।
मैंने पहले ही सारा इंतजाम कर रखा था, उसके आते ही उसे अपनी गोद में अपने लंड पर बिठा लिया उसके चूतड़ों के स्पर्श से लंड लोहे की राड जैसा हो गया।

फिर मैं उसे और वो मुझे चाकलेट खिलाने लगे, खिलाते खिलाते मैं उसके होंठों पे किस करने लगा और वो भी मेरे लंड के स्पर्श से मदहोश होने लगी।
मैंने उसकी टॉप और पैंट उतार दी और अपने कपड़े उतार फेंके, फिर उसका चेहरा अपनी तरफ करके उसकी दोनों पैर अपनी कमर में डलवा कर बैठ गया जिससे लंड का चूत से सीने का चुची से और होंठों का होंठों से सम्पर्क होता रहे।

फिर उसे अपनी बाहों की कैद में जकड़ कर गरदन पे कान के पास सीने पे सब जगह चुम्बन करना शुरू कर दिया। वह अपनी आँखें बंद करके मजा लेने लगी।
फिर मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और चुची को मुख में लेकर चूसने लगा, अब वह गर्म होने लगी थी, ‘अहह ह ऊऊम्म ईईई सी सी अहह सह ओओओ जानू…’ करने लगी और अपनी चूत को लंड पे रगड़ने लगी।

मेरा लंड भी तनाव के कारण दर्द कर रहा था।

मैंने उसे लिटाया फिर अपना अंडरवियर निकाल फेंका और उसने अपनी पेंटी भी निकाल दी। मेरा लंड अपनी पहली चूत के दर्शन के लिए तैयार था।
मैंने उसकी कमर के नीचे तकिया रख कर उसकी चूत को ऊंचा किया और उसके छेद पे लंड लगा कर लंड हिलाने लगा तो उसकी तड़प बढ़ने लगी, वो ‘अहह अहह हऊऊमम…’ करने लगी।

फिर उसने बोल ही दिया- प्लीज अब अंदर डाल दो!

इसी बात का मुझे इंतजार था बस, मैंने लंड का एक जोरदार धक्का लगाया, 2 इंच लंड उसकी चूत में समा गया।
वो चीखने लगी, बोली- प्लीज निकालो इसे!
मैं उसके ऊपर आ गया और स्तनों, होठों पर किस करने लगा। फिर अपने होंठ उसके होंठों पर रख कर एक और धक्का लगाया।

इस बार पूरा लंड चूत में और उसकी आवाज मेरे मुँह में ही दबकर रह गई।

फिर उसकी चूत चुदाई शुरू हुई। हर धक्के पे आवाज आ रही थी- ऊमम उम्म्ह… अहह… हय… याह… अहह ओओ अअह्हूह हहूऊह ऊई मम्मी अहह!

मैंने उसे अपनी गोद में बिठा लिया उसने दोनों हाथ गरदन में डाल लिए और जब उसने ऊचक उचक कर धक्के लगाना शुरू किए तो मजा ही आ गया।
उस दिन की चुदाई के बाद भी मैंने उसे बहुत बार चोदा लेकिन फिलहाल वो मेरे साथ नहीं है, मैं सिंगल हूँ।

मेरी सेक्सी स्टोरी पर अपनी राय जरूर भेजें।
[email protected]

Check Also

एयर हॉस्टेस को अपनी होस्ट बनाया

नमस्ते दोस्तो.. वैसे तो मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ, पर आज मैं भी आप …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *