लंड की प्यासी चूत गांड का मेला-1

मेरे प्रिय मित्रो, आपका अरमान आपके लिए अपनी पिछली कहानी
ज़िम में तीन चूत और एक लंड
से आगे की कहानी लेकर आया है.
जैसा मैंने अपनी पुरानी कहानी में बताया था कि मैं एकता के साथ मुंबई आ गया. ट्रेन में भी हम दोनों ने काफी मस्ती की. इस लम्बी यात्रा में एकता ने ट्रेन के सफ़र में मुझसे हर तरह से चुदाई का सुख लिया.

दूसरे दिन मैं मुंबई एकता के घर पहुंचा तो देखा कि उसका घर काफी आलीशान था. एकता के जेठ और उनकी पत्नी भी साथ में ही रहते थे. सुबह के नौ बजे हम घर पहुंचे, तो चाय ब्रेक फ़ास्ट ही चल रहा था. डाइनिंग टेबल पर एकता जेठानी बैठी ही थी. हमें देखते ही एकदम एकता की तरफ बढ़ कर उसे गले लगाया और बोली- ओ माय स्वीट भाभी … कितने दिन लगा दिए इंदौर में, यहाँ मैं अकेले बोर हो रही थी.
एकता बोली- क्यों तेरा शोना नहीं मिला क्या इतने दिन?
ये कह कर वो मुस्कुराने लगी.

जेठानी बोली- नहीं यार … उससे थोड़ी अनबन हो गई है और बोलचाल बंद है.
एकता बोली- क्यों?
जेठानी ने बोला- यार, एक दिन कॉल किया, तो अटेंड नहीं किया. तो मैंने उसे मैसेज करके थोड़ा डांट दिया और अब वो फ़ोन भी नहीं उठा रहा है.
इतने में उसने मुझे देखा और बोला- ये कौन है?
एकता ने कहा- ये अरमान है, अन्नू और डोली के साथ रहता है, अभी वो दोनों ट्रेनिंग पर गई हैं, इसलिए मैं इसे यहाँ ले आई.
जेठानी ने कहा- ये यहाँ क्या करेगा?
एकता ने कहा- अरे यार सब करेगा … अब थोड़ा बैठने भी दो … या सब यहीं खड़े खड़े ही पूछ लोगी.

हम तीनों डाइनिंग टेबल पर ब्रेकफास्ट के लिए बैठ गए. मैं एकता की जेठानी को ही देख रहा था. उसकी जेठानी भी काफी मस्त माल थी. वो एकता की हम उम्र ही होगी, पहनावा बिलकुल मॉडर्न तरीके का था. जब हम घर पहुंचे थे, तो वह एक ढीली ढाली शर्ट और केप्री में थी. एकता ने मेरा और उनका परिचय कराया, उसका नाम प्रमिला था. प्रमिला का फिगर 32-30-36 का था. उसके बाल कंधे तक खुले हुए थे, बालों में शेड भी किया हुआ था, तो वो गजब की खूबसूरत लग रही थी. वो तीनों से थोड़ी पतली थी, लेकिन फिट थी. एक बात तो पक्का है कि ऐसी औरतें अपनी बॉडी का बहुत ध्यान रखती हैं.

हम तीनों बातें करने लगे. एकता ने उससे पूछा- क्या बात है, घर पर कोई नहीं है क्या?
प्रमिला बोली- हां यार ये अभी अभी ऑफिस निकल गए हैं … बोल रहे थे कि बाहर जाने का हो सकता है, फोन पर बता दूँगा … और आपके पति का तो आप ही ध्यान रखो.

इस पर दोनों हंस पड़ीं.
एकता ने मुझे कहा- तुम थोड़ा आराम कर लो. फिर देखते हैं कि क्या करना है.
वो मुझे अपना कमरा दिखाने लगी. मेरा कमरा थर्ड फ्लोर पर था, मैं जाकर सोने चला गया.

जब मेरी आँख खुली, तब ढाई बज रहे थे. मैंने नीचे देखा तो कोई नहीं था. मैंने एकता को ढूँढा, तो मुझे वो अपने कमरे में मिली. मुझे देखते ही बोली- अरे मेरी जान उठ गई … मैं भी बस अभी ही उठी.
एकता भी नाइटी में ही थी और अपने फ़ोन से कॉल किया. शायद अपने पति को कॉल कर रही थी, फ़ोन पर बात करने के बाद बोली- ये तो आउट ऑफ़ इंडिया गए हुए हैं.
मैंने पूछा- कब लौटेंगे?
तो बोली- कम से कम दस से बारह दिन तो मानो.

फिर वो मुझे लॉन्ग किस करने लगी और बोली- यहीं मेरे साथ शॉवर ले लो.
मैंने भी हां कर दी और फिर हमने शॉवर लिया. मैंने एकता से प्रमिला के बारे में पूछा, तो एकता ने बताया कि वो दोनों अच्छी फ्रेंड हैं और सभी बातें शेयर करती हैं. अभी अभी उसका उसके ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया, वो उसे ज्यादा टाइम नहीं देता था और दिखने में भी ज्यादा खास नहीं था. उनकी एक बेटी है, जिसकी शादी हो चुकी है. उसके पति का विदेश में कारोबार है, कभी कभी ही यहाँ आती है.

फिर हम दोनों ने शॉवर लिया और शॉवर के बाद लंच किया. उसने मेरा पूरा मेनू किचन में लिखवा दिया और फिर शाम को बाहर जाने का प्लान बनाया. उसने प्रमिला को भी बोला, तो वो भी साथ चलने को तैयार हो गई.

एकता ने घुटनों से ऊपर स्कर्ट और बैकलैस टॉप पहना. प्रमिला ने जींस और ऊपर बड़े गले का स्लीव लैस टाईट टॉप पहना था. शाम को हम मुंबई घूमने गए, पब में भी गए, मुंबई की नाईट लाइफ के बारे में काफी सुना था, आज देख भी लिया. यहाँ सब खुम्मल खुल्ला होता है, जो दिख भी रहा था.

हम तीनों ने डांस किया, उन दोनों ने थोड़ी ड्रिंक्स भी ली. मैं शराब नहीं पीता, तो सॉफ्ट ड्रिंक ले लिया. पब में दोनों की कुछ फ्रेंड्स भी मिलीं, उन्होंने भी फूहड़ कपड़े ही पहने हुए थे. वे सब भी अपने अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ आई हुई थीं. सभी फूहड़ डांस करते हुए अपने अपने ब्वॉयफ्रेंड को किस कर रही थीं और उनसे चिपक रही थीं. सभी अच्छे पैसे वाले घरों से थीं. उन दोनों ने सबसे मुझे भी मिलाया, अन्नू और डोली को लगभग सभी जानती थीं.

सबने मेरे बारे में पूछा कि ये हैंडसम जवान लौंडा कौन है? क्या बॉडी है साले की …

और वे सब इसी तरह की बातें करते हुए मेरी शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मेरे सीने पर हाथ फिराने लगीं. घर की जिम और अन्नू और डोली के यहाँ छह आठ महीनों की खुराक और उनकी दी हुई दवाई से मेरा बदन काफी अच्छा हो गया था तो मैंने भी विरोध नहीं किया.

तभी एकता ने बोला- यार बड़ी मुश्किल से आठ दस दिन के लिए इसे उन दोनों ने छोड़ा है … वो भी ट्रेनिंग के वास्ते गई हैं तब लाने दिया है. जब तक ये इधर है, तब तक तो हम दोनों ही इसका रस पिएंगी. वैसे भी भाभी का अभी उसके ब्वॉयफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया है, तब तक तो ये मुस्टंडा ही काम में आएगा. वैसे भी मैं इससे चुदवा चुकी हूँ … क्या सॉलिड चोदता है … हम दोनों को एक साथ चोदा इसने.
एकता की फ्रेंड ने चौंक कर कहा- क्या बात कर रही है यार?
उसने बोला- हां यार … आठ इंच का लंड है साले का!

सब मेरी तरफ बड़ी हैरानी से देख रही थीं. दस पंद्रह औरतों ने मुझे घेर रखा था … और उनके ब्वॉयफ्रेंड मुझे खा जाने वाली निगाहों से देख कर जल रहे थे.
सब में से एक बोली- यार काश मुझे मिल जाए ऐसा कड़क लंड वाला कोई … साला मेरा वाला तो मुझे ठीक से चोद भी नहीं पाता … फिर भी जब तक कोई नया नहीं मिलता, इसी को झेल रही हूँ.

जो ये सब कह रही थी, उसका ब्वॉय फ्रेंड अभी यहाँ नहीं था, वरना कसम से मुझे मार ही डालता.

प्रमिला भी ड्रिंक लेने गई थी, तो ये बात उसे भी नहीं सुनी और फिर हम सबने साथ में डांस किया, बाहर ही खाना खाया और हम घर आ पहुंचे. उस वक्त रात के करीब एक बज गए थे. रास्ते में में और एकता कार की बैक सीट पर थे और प्रमिला कार चला रही थी. पीछे एकता और मैं किस और बूब्स दबाने में लगे हुए थे. मैंने अपना लंड भी बाहर निकाल लिया था, तो एकता अपने हाथों से उसे भी ऊपर नीचे कर रही थी.

एकता ने फिर प्रमिला को बोला- क्यों ना हम तीनों एक साथ में एन्जॉय करें?
प्रमिला ने कहा- ये टिक पाएगा हम दोनों के बीच?
एकता ने बोला- इस घोड़े की घुड़सवारी मैं कर चुकी हूँ और मुझे और डोली को ये अच्छे से एक साथ में चोद चुका है. अन्नू और डोली ने इसे इसी काम के लिए रखा है.
प्रमिला ने बड़ी हैरानी से मेरी तरफ देखा और बोली- अच्छा … मैं नहीं मानती?
एकता ने कहा- अच्छा … तो आज रात आजमा कर देख लो.
वे दोनों खिलखिला कर हंस पड़ीं.

हम घर पहुंचे, घर के सभी नौकर घर के बाहर उनके बने मकान में सो गए थे. एकता ने अपने पर्स से चाबी निकली, डोर खोला और अन्दर घुस गई. एक मेरे आगे और एक मेरे पीछे चल रही थी. हम एकता के कमरे की तरफ बढ़ रहे थे. एकता, मैं और प्रमिला तीनों ही अकेले थे … तो कोई चिंता नहीं थी. एकता का बेडरूम सेकंड फ्लोर पर था. एकता के कमरे में पहुंच के हम सभी ने अपने सामान मोबाइल … हैण्डबैग, स्कार्फ सभी बेड पर फेंके और एकता मेरे पास आकर मुझे स्मूच करने लगी. प्रमिला भी पास में खड़ी थी, मैंने उसका हाथ पकड़ के उसे भी खींचा और मैंने प्रमिला को भी अपनी बांहों में ले लिया.

फिर मैंने प्रमिला के होंठों पर किस करना चालू किया. दोनों ने पब में थोड़ी शराब पी हुई थी, तो थोड़ा बहक भी रही थीं. मैंने शुरू किया, फिर वो भी साथ देने लगीं. मुंबई में गर्मी काफी रहती है, तो किस करते करते ही हम सभी ने कपड़े भी निकालना चालू कर दिए.

मैं प्रमिला को किस कर रहा था. एकता ने मेरी शर्ट के बटन खोलना चालू कर दिए. फिर खुद की ही टॉप अपने जिस्म से अलग कर दिया और अपने कबूतरों को टॉप से आज़ाद कर दिया. मैंने झट से उन्हें पकड़ा और चूमने लगा. प्रमिला ने भी अपने टॉप को अलग कर दिया, उसके बूब्स एकता से थोड़े छोटे थे, लेकिन सख्त थे. एक हाथ से मैं प्रमिला के बूब्स दबाने लगा. दो छत्तीस साइज़ के मम्मे और दो बत्तीस साइज़ के सख्त बूब्स आज़ाद हो गए. मैंने बारी बारी से दोनों के मम्मों को मुँह में भर कर और हाथों से दबा कर मजे लेने लगा.

दोनों अपना एक एक हाथ मेरे बालों में डाल के अपने चूचे में मेरा मुँह में घुसाने लगीं और लम्बी लम्बी सिसकारी लेने लगीं. वे दोनों आपस में किस भी करने लगीं. बीस मिनट तक दोनों के मम्मों का मर्दन करने के बाद मैंने नीचे की स्कर्ट भी उनके जिस्म से अलग कर दी और दोनों ने मिल के मेरी पैन्ट भी उतार दी. गर्मी ज्यादा थी, तो हम तीनों शॉवर लेने के लिए बाथरूम में चल दिए.

मैं उन दोनों की कमर में हाथ डाल कर बारी बारी से दोनों को किस करता हुआ बाथरूम में ले जाने लगा. फिर हम तीनों ने शॉवर चालू करके किस करना चालू कर दिया और मैंने उन दोनों के मम्मों को चूस कर मजे लेने लगा. मेरा भी लंड अन्दर अंगड़ाई लेने लगा था और नीचे तम्बू खड़ा होने लगा था.

उन दोनों ने एक दूसरे की पेंटी उतारने के साथ मेरी अंडरवियर भी निकाल दी. प्रमिला ने किस करते हुए मेरे लंड को देखा, तो बड़ी बड़ी आंखें करके बोली- ओ माय गॉड … इतना बड़ा और मोटा भी … मेरा तो सारा नशा ही उतर गया.
एकता हंस कर बोली- क्यों भाभी बोला था ना … बहुत मस्त घोड़ा है … इसका एक बार ले लोगी, तो सभी को भूल जाओगी.
प्रमिला बोली- हां यार … ये तो सच में घोड़ा ही है … तभी तो अन्नू और डोली ने इसे अपने साथ रखा हुआ है. पहले दोनों यहाँ आती थीं, तो चुदवाने के लिए कितना फड़फड़ाती थीं, कभी कभी तो हमारे ब्वॉयफ्रेंड से ही चुदवा लेती थीं.

फिर वे दोनों अपने एक एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगीं. उन दोनों ने मुझे किस करना और मुझसे अपने चूचे चुसवाना चालू रखा हुआ था. वे दोनों इंग्लिश में बड़बड़ा रही थीं- ऊऊऊ सो बिग कॉक … सक माय बूब्स हार्ड … ऊऊऊ या बेबी सक!
मैं भी निप्पल को मुँह में लेके चूसे जा रहा था और कभी कभी हल्के से काट भी लेता.

दोनों आपस में किस कर रही थीं और एक दूसरे के मम्मों को भी चूसना चालू रखे हुए थीं. उन दोनों को बड़ा मजा आ रहा था. हम तीनों ने एक दूसरे को सहलाया और अच्छे से शॉवर लिया. फिर तौलिये से एक दूसरे के बदन के एक एक अंग को पौंछा और बिना कपड़ों के बेडरूम में आ गए.

फिर मैंने प्रमिला को किस करना चालू किया और एकता के कंधे को हाथ से दबा के नीचे बैठने का इशारा किया. एकता ने इशारा समझ लिया. वो अपने घुटनों को मोड़ के नीचे बैठ गई और मेरे आठ इंच के लंड को अपनी जुबान से आइसक्रीम की तरह ऊपर से नीचे चाटने लगी. मैं और प्रमिला फ्रेंच किस में लगे हुए थे. एक उंगली से मैं प्रमिला की चुत के दाने को भी सहला रहा था, जिससे प्रमिला भी सिसकारियों के साथ मुँह से ‘ऊऊ ह्ह्ह आआअह्हह …’ की आवाजें निकाल रही थी.

दस मिनट तक मैं किस और बूब्स से खेलता रहा. इधर एकता अब मेरे लंड को अपने मुँह में ले कर पूरा अन्दर बाहर कर रही थी. मेरे मुँह से भी गरम चुदासी आवाजें निकल रही थीं- आआह्हह … आआह!
फिर मैंने प्रमिला को कमर से पकड़ कर ऊपर उठा के अपने पेट से चिपका के उल्टा उठा लिया, जिससे प्रमिला का मुँह मेरे लंड की तरफ और प्रमिला की चुत मेरे मुँह की तरफ हो गई. प्रमिला ने भी अपनी दोनों जांघों को मेरे सर के आजू आजू रख लिया और मैंने प्रमिला को उसकी कमर से पकड़ के अपनी तरफ चिपका लिया. फिर उसकी टाईट चुत को चाटने लगा. एकता ने अपने मुँह में से लंड निकाल के हवा में झूलती प्रमिला की तरफ आगे बढ़ा दिया. प्रमिला ने भी अपने अनुभव को साबित किया और झट से मेरे मूसल लंड को मुँह में लेके अन्दर बाहर करने लगी. उधर एकता मेरे लंड के नीचे लटक रही गोटियों से खेलने लगी और मुँह में भरने लगी.

मैं खड़ा खड़ा प्रमिला की चूत चाट रहा था. इस पोजीशन को मैं पहली बार कर रहा था. मुझे बड़ा मजा आ रहा था. उधर लंड चूसने का दोनों में कम्पिटीशन चल रहा था. वे दोनों गालियां भी बक रही थीं. कभी इंग्लिश में, कभी हिंदी में- याआआह गुड हार्ड कॉक … सो बिग कॉक उह्ह्ह गूऊउ … गूऊउ! मस्त लंड है साले का आह क्या मस्त लंड है साले का!

नीचे मेरे लंड के करीब, एकता और प्रमिला एक दूसरे को किस भी कर रही थीं. प्रमिला की चुत गीली तो थी ही, अब ज्यादा पानी छोड़ने लगी थी. चूत के रस की मादक खुशबू मुझे कुछ ज्यादा अन्दर तक चाटने पर आमादा और दीवाना कर रही थी. मैं भी जुबान की नोक बना कर चुत में अन्दर तक के रस चाट रहा था. मुझे चुत चाटना बहुत अच्छा लगता है, लेकिन मुझे एकदम क्लीन शेव चुत अच्छी लगती है. उन दोनों की ही चुत एकदम साफ़ थी, तो बड़ा अच्छा लग रहा था.

दस मिनट के बाद मैंने प्रमिला को नीचे लाते हुए सीधा खड़ा किया और घुटनों पर बिठा लिया. अपना लंड एकता से ले के प्रमिला की तरफ को बढ़ाया. मैं उन दोनों को एक साथ लंड चुसाने लगा. कुछ देर बाद मैंने एकता को मेरे पीछे किया और अपने पैरों को चौड़ा करके प्रमिला की तरफ को थोड़ा झुक गया. मैं प्रमिला के बालों को पकड़ के लंड उसके मुँह में डालने लगा. प्रमिला भी लंड पर थूक थूक कर उसे अपने मुँह में लेने लगी.

उधर एकता मेरी गांड के छेद पर थूक कर अपनी नुकीली जुबान से गांड के छेद को लिकिंग करने लगी.
प्रमिला ने देखा और कहा- ओय साले की गांड भी?
एकता ने बोला- साले की एक एक चीज टेस्टी है.
वो मेरी हिप्स को चौड़ा करके अपनी जुबान मेरी गांड के छेद पे फेरने लगी. इस स्टाइल में सच में इतना मजा आता है कि पूछो मत.

मैं भी झुक कर एकता की हेल्प कर रहा था. इस समय शरीर में एक अलग ही रोमांच पैदा हो रहा था. सच में ऐसे पलों को शब्दों में नहीं बता सकते.

कुछ बाद मैंने पाली बदल ली और इस बार एकता को लंड और प्रमिला की तरफ गांड कर दी.

एकता ने झट से मुँह को खोल के लंड गप्प से अन्दर ले लिया. प्रमिला के लिए गांड चाटना शायद पहली बार था, तो वो थोड़ा संकोच कर रही थी. मैंने अपना एक पैर बेड पर रख के अपने हाथ को पीछे करके प्रमिला का सर पकड़ के उसका मुँह अपनी गांड में डालने लगा.

थोड़ा ना नुकर के बाद तो उसे भी अच्छा लगने लगा और मैं दो का मजा एक साथ ले रहा था.

एकता बड़बड़ा रही थी- आज आयेगा मजा … क्या जोरदार लंड है साले का … बिग कॉक बेबी … हार्ड कॉक याआआ आआआअ … गूऊऊउ गूऊऊउ …

वो अपनी मादक आवाजों के साथ लंड पर जोर जोर से अपना मुँह आगे पीछे कर रही थी. मैं एकता के मम्मों को हाथ से दबा भी रहा था. मेरे मुँह से भी कराहने की आवाजें निकल रही थीं.

प्रमिला भी ‘ऊउम्म सो टेस्टी एस … ऊऊउम्म या ह्ह्ह्हह..’ के साथ एक उंगली मेरी गांड में भी डाल रही थी. वे दोनों अपने अनुभव का फायदा उठा कर मुझे तृप्त करने में लगी हुई थीं.

जब मुझे लगा कि अब लंड फट जाएगा, तब मैं उन दोनों को बेड पर ले गया और पीठ के बल लेट गया.
अब इन दोनों की चुदाई का किस्सा अगले भाग में लिखता हूँ, आप मुझे मेल कीजिएगा.
[email protected]

कहानी का अगला भाग: लंड की प्यासी चूत गांड का मेला-2

Check Also

दोस्त के साथ मिल कर हाईफाई औरत की चूत गांड की चुदाई की-4

This story is part of a series: keyboard_arrow_left दोस्त के साथ मिल कर हाईफाई औरत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *