पानीपत के लेखक मित्र से मिलकर सेक्स का मज़ा लिया

हॉट गर्ल अन्तर्वासना कहानी बुर्के वाली शादीशुदा लड़की की है. उसने अन्तर्वासना के एक लेखक से दोस्ती करके अपने शहर में बुलाकर उससे गांड मरवाई, चूत मरवाई.

यह कहानी सुनें.

Hot Girl Antarvasna Kahani

दोस्तो, मैं आलिया खान अलीगढ़ की रहने वाली हूँ.
आप सभी के लिए मैं दो अलग अलग धर्म के लंड चूत के बीच हुई धमाकेदार चुदाई की कहानी लेकर आई हूं।
यह कहानी मेरी और रोहण के बीच की है।

हॉट गर्ल अन्तर्वासना कहानी शुरू करने से पहले मैं आप सभी को अपने बारे में बता देती हूं।
मैं एक शादीशुदा औरत हूं और मैं 26 साल की हूं.
दिखने में मैं गोरी और कमसिन बदन की मालकिन हूं.
मेरी फिगर 34-30-36 की‌ है।

मुझे देख कर किसी भी मर्द की नीयत बदल सकती है।

मेरा एक अजीब शौक है. मुझे चूत मरवाने से ज्यादा गांड मरवाने में मजा आता है.
मेरे अब्बू ने मेरी गांड मार मार कर मुझे गांड मरवाने की लत लगा दी थी.

रोहण पानीपत का रहने वाला है.
वह 6.5 इन्च लम्बे और 3.5 इन्च मोटे लन्ड का मालिक है. वह दिखने में काफी अच्छा है और मेरे से दूसरे धर्म के परिवार से हैं।

मुझे अन्तर्वासना की दोनों मशहूर साईट में कहानी पढ़ने का शौक है।

बात कुछ एक दो महीने पहले की है.
एक दिन मुझे रोहण की कहानी पसंद आ गई.
तो मैं उसकी फैन बन गयी. तब मैंने रोहण को मेल किया, उसकी कहानी की तारीफ़ की.
और इस तरह से हम दोनों में दोस्ती हो गई।

रोहण मुझसे मिलने पानीपत से अलीगढ़ आने वाला था.

तो मैंने रोहण को समय और जगह बताई.
‘जब मेरे शौहर घर में न हो तो हम मिलेंगे’ यह भी कहा।

फिर रोहण दो दिन बाद अलीगढ़ आ गया और वहीं एक होटल में कमरा लेकर रुक गया।

रोहण ने मुझे फोन किया और मुझसे मिलने के बारे में कहने लगा.

मैंने उसे कहा- मैं एक डेढ़ घंटे में आती हूं.

तभी मैं तैयार होने लगी.
और कोई मुझे न पहचान ले, इसके लिए मैंने बुर्का हिजाब पहन लिया.

मैं रोहण से मिलने के लिए और दूसरे धर्म का अनकटा लन्ड का स्वाद लेने के लिए बेताब थी।
अभी तक मैंने कई लंड लिए, सारे मेरे परिवार वालों के ही थे तो सारे कटे हुए थे.
अनाकता लंड मैंने सिर्फ पोर्न विडियो में ही देखा था.

जब मैं होटल पहुंची तब रोहण को फोन किया.

रोहण ने अपने कमरे का नंबर बताया.
मैं सीधे उसके कमरे के बाहर पहुंच गयी और बेल बजाई.

तब एक हसीन बदन वाला लड़का रोहण तौलिया लपेटकर मेरे सामने आकर खड़ा हो गया।

मेरी नज़र तो उस पर से हट ही नहीं रही थी.

मैंने यह भी नोटिस किया कि रोहण भी मेरे बदन को बुर्का के ऊपर से देख रहा था.
मुझे लगा कि अगर मैं कमरे में दाखिल ना हुई तो रोहण मुझे यहीं खड़े खड़े चोद देगा।

पर रोहण ने मुझे अंदर बुलाया और पूछा- कुछ लोगी?
मैंने न कहा.

रोहण ने पहले मुझे मेरा बुर्का निकालने को कहा.
मैंने अपना बुर्का उतार दिया.

मेरा गोरा चिकना मुखड़ा देखकर रोहण का लंड हिल कर रह गया होगा. उसके तौलिये का उभार उसके लंड की हालत बयाँ कर रहा था.

फिर हम बैठ कर बातें करने लगे.
हमें पता ही नहीं चला कब हम दोनों आपस में एक दूसरे को चूमने लगे.

और फिर धीरे धीरे रोहण ने मेरे पूरे कपड़े उतार दिये।

मैं नंगी थी और रोहण एक तौलिया में था.

मैं रोहण का लंड देखना चाहती थी तो मैंने भी झट से उसका तौलिया निकाल दिया.
रोहण ने अंदर कुछ भी नहीं पहना था.

उसका लन्ड देखकर मेरी चूत में खुजली होने लगी.
मैंने कुछ सोचे समझे बिना उसका लन्ड मुंह में भर लिया।

तब रोहण ने मुझे रोका और कहा- ऐसे नहीं!
तो समझ नहीं पाई कि रोहण क्या कहना चाहता है।

तब रोहण ने अपना बैग खोला, उसमें से चोकलेट निकाली.

मैंने उससे पूछा- इसका क्या करोगे?
तब उसने कहा- तुम मेरे लन्ड पर चॉकलेट लगाओ, फिर इसे चूसो.

फिर मैंने वैसे ही किया.
सच बताऊं तो मुझे रोहण के लंड पर चॉकलेट लगाकर चूसने में बहुत मजा आया.

वह अपने पूरे लन्ड को मेरे गले तक उतारने लगा.
उसका लन्ड और भी मोटा और लम्बा दिखने लगा.

मेरी आंखों से आंसू बहने लगे।
मुझे तो सांस भी नहीं आ रही थी.

रोहण अपने लंड से मेरा मुंह छोड़ने लगा.
पांच मिनट बाद रोहण झड़ गया.

मैं उसकी पूरी मनी पी गई.
उसका एक अलग ही टेस्ट मिला था मुझे चॉकलेट के साथ मिक्स होकर!

फिर रोहण मुझे चूमने लगा.
थोड़े देर बाद मेरे रसीले होंठों का रस पीने के बाद वह मेरे वक्ष पर टूट पड़ा और चूसने लगा. वह मेरे निप्पल को दांतों से काटने लगा.
मैं तो पागल हुए जा रही थी।

फिर वह मेरे 34″ के गोरे सख्त बूब्स पर चॉकलेट लगा कर चूसने लगा और दबा दबा कर उनका दूध निकालने लगा.

कभी कभी वह मेरी उरोजों पट जोर जोर से तमाचे भी मार रहा था. जिसके कारण मेरे स्तन लाल और कड़क हो गये थे. साथ ही मुझे बहुत दर्द भी हो रहा था और मज़ा भी आ रहा था।

फिर वह मेरे बूब्ज़ के बीच लन्ड डालकर मेरे चूचों को चोदने लगा.
उसका लन्ड चूचियों के बीच से होकर मेरे मुंह तक आने लगा.

थोड़े देर चोदने के बाद रोहण मेरे नीचे की तरफ़ जाकर मेरी चूत को सहलाने लगा.
मेरी चूत पानी छोड़ रही थी और पूरी गीली हो गई थी।

वह मेरी चूत को चाटने लगा और काटने लगा.

5 मिनट बाद रोहण ने मेरी चूत को अपनी दो अंगुलियों से फैलाया और चूत में चॉकलेट डालने लगा.

मैं सिर्फ मजे ले रही थी.

मेरी गुलाबी चूत में चॉकलेट डालने के बाद रोहण अपनी तीन अंगुलियों को जोर जोर से मेरे चूत में डालने लगा.
मुझे दर्द होने लगा पर मजा भी आ रहा था।

रोहण की रफ़्तार और चॉकलेट की चिकनाहट से मधुर आवाज आ रही थी.
साथ में मेरी सिसकारियां इस माहौल को और भी मादक बना रही थी।

कुछ देर बाद मेरा शरीर अकड़ने लगा और मैं झड़ गई।
मेरी चूत लाल हो गई और उसमें से मेरी चूत का रस और चॉकलेट निकल रही थी जो रोहण ने चाट चाट कर साफ़ कर दी.

पर थोड़ी सी मलाई उसने अपने मुंह में भर ली.
मेरी चूत की मलाई मुझे ही चखाने के लिए वह मेरे होंठों को चूसने लगा।

मैं और रोहण दोनों थक चुके थे.
फिर भी हम में से कोई हार मानने वाला नहीं था.

मैंने रोहण को मेरी गांड मारने को कहा तो रोहण एकदम तैयार हो गया.

रोहण के लन्ड को फिर से मोटा और लम्बा करने के लिए मैं अपने मुंह से लन्ड को चोदने लगी.
कुछ ही देर में लन्ड अपने आकार में आ गया.

तब मैंने रोहण को सीधा लेटने को कहा.
मैं उसके लन्ड पर बैठ कर रोहण को चोदना चाहती थी.

मैं अपनी गांड के छेद पर से रोहण का लन्ड लगा कर धीरे धीरे नीचे की ओर दबाव देने लगी ताकि उसका सख्त लंड मेरी गांड के पूरे अंदर तक जाये.

जब उसका पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया तो मैं पूरा दम लगाकर उसे चोदने लगी.
मेरे साथ रोहण का भी सिसकारियां निकलनी शुरू हो गई।

थोड़ी देर बाद रोहण बोला- रूको ज़रा.
फिर रोहण ने अपनी उंगली पर चॉकलेट लगाया और मेरी चूत में डाल कर चूत को उंगली से चोदने लगा.
उसका लंड मेरी गांड मार रहा था, साथ में वह मेरी चूत में उंगली करे जा रहा था.

इससे मैं दो बार झड़ गई और रोहण भी एक बार झड़ गया।

तब हम से उठा नहीं जा रहा था तो हम ऐसे नंगे ही सो गए.

फिर 3 घंटे के बाद मेरी नींद खुली.
तब मैं नंगी ही चाय बना कर ले आई.

रोहण भी नंगा सोया था तो उसके लन्ड को देखकर मैं हंसने लगी.
उसका लंड मुरझाये हुए फूल की तरह लग रहा था.
मैं सोच रही थी कि इसी लन्ड ने मेरी गांड फाड़ दी थी और अभी आराम से सोया है।

मैंने रोहण का लन्ड को चूम कर उठाया.
हमने चाय पी.

फिर रोहण कहने लगा- तुमने अपनी चूत तो मुझसे चुदवाई ही नहीं … मैं तुम्हारी चूत चोदना चाहता हूँ।

तब मैंने अपने मन में सोचा कि इस गैर लन्ड ने मेरी गांड को नहीं छोड़ा तो चूत क्यों बाकी रहे!

फिर मैंने रोहण से अलग अलग तरीके से कई बार चूत चुदवाई और उस पूरे दिन रात सेक्स का कार्यक्रम चला।

ये बातें मैं आपको अपनी अगली हॉट गर्ल अन्तर्वासना कहानी में बताऊंगी।

आप सभी को मेरी यह कहानी पसंद आएगी, ऐसी मैं आशा करती हूं.
अपने विचार आप मुझे मेल द्वारा भेजते रहिये.

आप सभी को मेरे जैसी चुदक्कड़ चूत गांड वाली लडकियां भाभियाँ मिलती रहें, ऐसी दुआ करती हूँ.
हॉट गर्ल अन्तर्वासना कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद।
[email protected]

Check Also

मुखिया की जवान बीवी को चौराहे पर चोदा

गाँव में चुदाई की कहानी में पढ़ें कि पहचान पत्र बनने के काम में मैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *