दौड़ पड़ी मेरी बीवी की चुदाई एक्सप्रेस-3

प्रिय मित्रो, आपने इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में
मेरी बीवी नीना और किराएदार प्रशांत की शानदार चुदाई का लेखाजोखा पढ़ा, जो अगले कुछ महीने बाद ही नीना की जुबानी मुझे मालूम हुआ. मुझे आप लोगों की ढेर सारी प्रतिक्रिया भरे हुए मेल मिले, जिसमें नीना की चूत का बखान भरा पड़ा है. आप सभी का बहुत-बहुत आभार.

आपको बता दूं कि कहानी कि हर एक भाग में महज शब्द ही मेरे हैं, जबकि घटना का लेखाजोखा बताने वाली तो मेरी चुदक्कड़ वाइफ नीना खुद ही है. दरअसल इन जानदार कहानियों के बारे में मिली, आपकी तारीफ का हकदार अकेले मैं ही नहीं हूं, बल्कि सेक्स की साक्षात देवी मेरी नीना डार्लिंग भी है.

यह तो मेरा बड़ा सौभाग्य है, जो उसकी जैसी खेली-खाई ग्रेट चुदक्कड़ कन्या से मेरी शादी हुई. भले ही उनका राज खुलने के बाद हफ्ते-दस दिन तक यह बात मुझे नागवार गुजरी हो, मगर बाद में सचमुच एहसास हुआ कि उसके खुलेपन के चलते ही मेरी जिंदगी रंगीन बन सकी.

अब चर्चा शुरू करते हैं, अपनी चुदैल नीना की अगली काम क्रीड़ा की.

उस दिन मस्ती में आकर लंड की भूखी मेरी नीना ने ताल ठोक कर प्रशांत के साथ चुदाई की, मगर अगले दो दिन तक उसे इसकी बड़ी सजा मिली. फिर भी उसे कोई अफसोस नहीं था, क्योंकि चूत के रास्ते उसके पूरे शरीर में मस्ती समाई हुई थी जिसे वह भूल नहीं पा रही थी. उस भयंकर चुदाई को याद करके वो बार बार सिहर जा रही थी.

वास्तव में प्रशांत के गदहलंड की धक्कमपेल से बेचारी नीना की चूत का भुर्ता बन गया था. तभी तो मस्ती लेने के चक्कर में नीना रानी को होश नहीं रहा. मगर चूत की गर्मी शांत होने के बाद दर्द का एहसास हुआ. मीठी-मीठी पीड़ा के साथ हुई इस चुदाई में चूत तो अब फूल कर एकदम पावरोटी बन गई थी.

खैर नीना ने अपनी हमराज सहेली मनीषा से इसका प्राथमिक इलाज पूछा, तो मनीषा ने हंसते हुए चुटकी ली- भाई साहब तो हैं नहीं … किसके साथ टांका भिड़ गया मेरी मैडम का? ऊपर से बेरहम ने इतनी तगड़ी धुनाई कर दी. यह भी नहीं सोचा कि इस बीच भाई साहब आ गए, तो मेरी नीना डार्लिंग उनसे क्या बहाना बनाएगी.

फिर दोनों सहेलियां आपस में खिलखिला कर हंस पड़ीं.

बहरहाल मनीषा की सलाह पर नीना ने अपनी चूत में अन्दर-बाहर चारों ओर दिन में चार-पांच बार बोराप्लस क्रीम को रब किया और साथ ही ब्ल्यू इंक भी लगाई. इससे पहले ही दिन आराम मिला और दो दिन में तो चूत चंगी हो गई.

इस बीच जब-जब प्रशांत से नीना की आंखें चार हुर्इं, तो दोनों ने अपनेआप में अजीब तरह का बदलाव पाया.

चुदाई के तीन दिन बीत चुके थे. घर में उसी दिन जैसी ही खामोशी आज भी थी, मगर मौसम साफ था. प्रशांत के पास बाइक धोने का बहाना तो था नहीं.. और न ही अब उसे बहाने की जरूरत ही रह गई थी. वैसे भी आजाद ख्यालों की चुदक्कड़ लैंड लेडी नीना के लिए यह घटना वरदान साबित होगी, यह बात उसे अच्छी तरह पता थी.

ऐसे में प्रशांत ने बाइक को आगे गेट पर ही छोड़ दी और अपने फ्लैट में आने के बाद वाशरूम की राह पकड़ी.

इधर आंगन में बैठी नीना सब्जियां काट रही थी. जैसे ही आमना-सामना हुआ, तो पहले दोनों मुस्कुराए, फिर दोनों ही ठहाके लगाकर हंस पड़े. निश्चित तौर पर यह उस दिन हुई ग्रैंड चुदाई की याद थी, जो तन्हाई में सामना होते ही वे खुलकर हंसे बिना नहीं सके.

बहरहाल प्रशांत ने नीना का मन टटोला- आज क्या इरादा है मैडम?
इस बात पर प्रशांत को उलाहना देते हुए नीना बोली- आज न तो बारिश हो रही है और न बाइक धोने की जरूरत है. मेरे दिल में तेज धड़कन भी नहीं हो रही है.
प्रशांत उसकी तरफ देखे जा रहा था.

नीना लगातार बोले जा रही थी- तू डॉक्टर है, जो मेरी हर्ट बीट चैक करने लगा? औरत देखते ही शुरू हो गए. जानवर की तरह तुमने मुझे रगड़ दिया था. बेरहम सांड कहीं के, मैं इंसान हूं, कोई घोड़ी या गधी नहीं, जो तुम्हारे गधे जैसे हथियार को अपने भीतर डाल सकूं. मेरी मुनिया सूज कर खरबूजा बन गई है.
“देखूं तो जरा, क्या हुआ है मेरी जान को?”

नीना के मन की चाह लेने के लिए प्रशांत पीछे पलटा. साथ ही नीना ने उसे तगड़ी डांट पिलाई- चल भाग जा, नाम मत लेना.

प्रशांत नीना की इस ना-नुकुर पर आरजू मिन्नत करने लगा. थोड़ी देर में ही नीना पिघलने लगी और बोली- देखेगा तो तू फिर से बहक जाएगा और मैं भी बहक गई तो मेरी हालत बहुत पतली हो जाएगी. फिर पति महोदय को क्या जवाब दूंगी? वे अगले हफ्ते घर वापस आ रहे हैं.
“यार क्या बच्चों की सी बात करती है? पहली बार में थोड़ी स्वेलिंग हो गई. अब आगे तो यह सब नेचुरल है.” प्रशांत ने अनुभवी चोदूशेर की तरह अपनी बात रखी.

नीना ने लापरवाही भरे अंदाज में प्रशांत को अपने किचन से एक मग कड़क कॉफी बनाकर लाने को हुक्म दिया, जिसकी अगले पांच मिनट के भीतर तामील हुई. प्रशांत को वैसे भी वाशरूम तो जाना नहीं था, उसने तो नीना को आज फिर पेलने के चक्कर में इस ओर रुख किया था.
नीना भी इस बात को समझ रही थी.

इधर नीना कॉफी सिप करने लगी तो प्रशांत आज की चुदाई का रास्ता साफ करने में जुट गया. लिहाजा बात आगे बढ़ाते हुए वह बोला- मैडम, आज मेरी जीभ का कमाल देख लो. जीभ से तो सूजन नहीं होगी न?
इस बात पर अपने नैन कटार से वार करते हुए नीना बोली- ओह हो … तुम मुझे यह बात बता रहे हो. जीभ लगने के बाद मैं खुद को संभाल पाऊंगी क्या? उस समय तो कोई भी लड़की पागल हो जाती है. जनाब, मैं कोई छोटी नहीं हूं. उपदेश मत दो, फौरन फूट लो यहां से. तुम्हारी नियत में बहुत लोचा दिख रहा है.

मान-मनौवल के बीच नीना रानी के अंदाज पर प्रशांत कहकहे लगाकर हंसने लगा. साथ ही कॉफी खत्म कर चुकी नीना की पीठ पर अपने हाथों की प्यारी सी झप्पी देते हुए बोला- मेरीजान, आ जा.. मैं आज तुझे ऐसी दुनिया की सैर कराता हूं, जिसे तुम अब तक नहीं देखी होगी.

अब यह बात नीना के लिए चुनौती बन गई और वह मन ही मन सोचने लगी. आखिर कैसी होगी इसकी चुदाई की नई दुनिया? फिर तो करते हैं प्रशांत की नई दुनिया का सैर. मगर शर्त कि स्वेलिंग नहीं होनी चाहिए. नीना ने इस बात का इजहार किया और प्रशांत ने कान में कुछ कहा.

बस क्या था, दोनों ओर से ‘डन’ होने के बाद सब्जियां समेटते हुए नीना अपने नए-नवेले चोदूशेर प्रशांत को लेकर बेडरूम में चली गई. मगर आज बेडरूम का दरवाजा बोल्ट करना जरूरी था.

शर्त के मुताबिक, आज पहले राउंड में प्रशांत की जीभ को मेरी नीना की चूत का ग्रैंड मसाज करना था. चूंकि वह सुबह सबेरे ही नहा धोकर तैयार हो चुकी थी. सो साक्षात लिंगदेव की पूजा-आराधना का करना बेहतर समझी.

इस क्रम में नीना ने सबसे पहले प्रशांत का लोअर नीचे सरकाया और फिर उसका वी-कट अंडर वियर. इतनी देर तक नीना के सानिध्य में रहे प्रशांत के फनफनाए हुए लौड़े को नीना की चूत में आराम की दरकार थी. मगर वह तो लंड का आभार व्यक्त करने को आतुर थी. इसलिए सबसे पहले उसने प्रशांत को बेड पर बिठा दिया और उसके पैरों में अपना माथा टिका कर दंडवत किया. इसके बाद लंड देवता पर सादा जल को गंगा जल मानते हुए छिड़का और पूजा की टोकरी से फूल उठाकर पुष्प वर्षा करने लगी. इस तरह अपना आभार जताते हुए नीना ने लंड के टोपे को अपने होठों का चुंबन देते हुए दोनों आंखों का नजराना पेश करना शुरू कर दिया.

हालांकि प्रशांत को यह सब बड़ा ही नागवार गुजर रहा था, क्योंकि चूत की लालच में तब तक लंड से न जाने कितना पानी बह चुका था. सो उसने बिना देर लगाए नीना की मैक्सी को निकाल फेंका.

मगर चुदाई की शुरुआत करने से पहले नीना रानी लंड से खेलने के मूड में थी. सो, उसने लंड के टोपे पर जीभ फेरना शुरू कर दिया. प्रशांत के लिए यह अद्भुत था, क्योंकि नीना पहली बार उसके लौड़े को मुख-मैथुन का सुख दे रही थी. लंड को जीभ से ऊपर से नीचे तक धुलाई करने के बाद नीना ने अपने गले में उतार लिया. इस तरह थोड़ी देर तक लिंगदेव को धन्यवाद देते हुए मेरी नीना रानी ने चुदाई के इस सेशन की धमाकेदार शुरुआत की, जिसमें बेचारा प्रशांत क्लीन बोल्ड हो गया.

अब बारी प्रशांत की थी. शर्त के मुताबिक उसे नीना की चूत का टंगल मसाज करना था. मगर नीना तो अभी भी ब्रा-पैंटी में थी. ऐसे में प्रशांत ने नीना की चूचियों पर अपना फिराते हुए अपने ऊपर लेकर बेड में समेट लिया और ब्रा का हुक खोल दिया. इस तरह वह नीना की गरमाई हुई चूचियों को अपने मुँह में भरकर किसी छोटे से बच्चे की तरह पीने लगा.

इधर अपनी टांगों और प्रशांत के लंड स्पर्श से नीना का बुरा हाल हो रहा था. वह कम से कम लंड को रगड़ने का मजा तो लूट ही लेना चाह रही थी.

बहराहल नीना ने अपनी चूचियों को आजाद कराया, क्योंकि उसे तो चूत में प्रशांत की जीभ वाली बैटिंग देखनी थी. लिहाजा नीना ने खुद ही अपनी पैंटी नीचे सरका दी और शुरू हो गई खास चुदाई की अनोखी सेरेमनी. इस तरह प्रशांत की लपलपाती हुई जीभ मेरी चुदैल बीवी की चूत में अपना करामात दिखाने लगी और थोड़ी ही देर में नीना पर मदहोशी का गहरा असर हो गया.

मुश्किल से पांच मिनट के भीतर नीना लौड़े को चूत में उड़ेल देने के लिए चीखने लगी.

हालांकि नीना के कान में प्रशांत तो आंगन में पहले ही बता चुका था कि वह चूत में लंड डालकर धक्कमपेल चुदाई नहीं करेगा, बल्कि चूत की जड़ तक एक बार लंड को ले जाएगा और फिर चक्की पीसने के अंदाज में जड़ से लेकर क्लिट तक चूत की लौड़े से मसाज करेगा. इससे चूत में रगड़घिस नहीं होगी और स्वेलिंग का खतरा नहीं रहेगा. प्रशांत यहां अपने वादे पर सौ फीसदी खरा उतरा और वही किया, जो उसने कहा था.

मेरी ग्रेट चुदक्कड़ बीवी नीना को अगले कुछ मिनट में ही इस बात का एहसास हो गया कि सचमुच प्रशांत उसे चुदाई की नई दुनिया का सैर करा रहा है. वास्तव में आज तक तो उसे इस अंदाज में किसी ने चोदा ही नहीं और बाद में भी कोई ऐसा नहीं मिला, जिसने ‘चक्की’ स्टाइल में ऑफ़र करके चुदाई की हो. न जाने कितने जन्मों से प्यासी उसकी चूत धन्य हो गई और वह चुदाई का अकथनीय मजा लूटने लगी.

मेरी बीवी नीना तो इतनी उदार दिल की मालकिन है कि जब भी कोई अजनबी तक उसकी चूत के करीब आया, तो वह प्रशांत की ‘चक्की’ स्टाइल का न केवल राज जरूर शेयर करने की सोच ली, बल्कि खुद इस खास चुदाई का प्रैक्टिकल भी बड़े ढंग से कर ली. फिर उसे भी अपनी बीवी या गर्लफ्रेंड पर आजमाने की सलाह दी. यहां तक कि बाद में नीना अपनी सहेलियों और बहनों को भी ‘चक्की’ स्टाइल में चुदाई करने की मुफ्त सलाह देने से कभी नहीं चूकी.

खैर अब मेरी नीना अंतरिक्ष की सैर करने लगी. पांच, दस, पंद्रह, बीस, पच्चीस … मिनट पर मिनट घड़ी की सुई भागती जा रही थी. इस बीच नीना दो बार झड़ी भी, मगर प्रशांत का कड़क लंड तो ठंडा पड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था.
अब बेचारी नीना को अपनी बेइज्जती लगी कि वह प्रशांत के लौड़े का पानी नहीं निकाल सकी. लिहाजा बहाना बनाकर वह अपना पोज बदलने लगी.

चुदाई के नाजुक मोड़ पर प्रशांत नीना की मंशा समझ गया और उसे एक ऐसी सलाह दी, जिससे चुदाई में वह नीना से अपने किराए की मुकम्मल वसूली कर सके. दरअसल मेरी नीना को उसने खड़े-खड़े चोदने का एक्शन प्लान बनाया. प्रशांत के इस चुदाई पोज के मुताबिक, मेरी नीना ने उसकी गरदन में अपनी बांहें डाल दीं और दोनों टांगों से पीठ पर पकड़ बना ली.
नीना को लगा कि इस पोज में सब कुछ उसी के हिसाब से चलेगा और वह अपनी मनमर्जी से ही लंड में चूत ठोकती रहेगी.

दस-बारह अप-डाउन के बाद प्रशांत को शरारत सूझी और बात नीना के कंट्रोल से बाहर हो गई. प्रशांत ने जड़ तक लंड डालकर मेरी चुदक्कड़ बीवी की चूत में गचागच कई धक्के मार डाले. नीना ना-ना कर रोकती रही, मगर चुदाई की रेल कहां रूकने वाली थी.

प्रशांत को अब तक पता चल चुका था कि नीना नखरे पसार रही है. जब नीना चिल्लपौं करने लगी और ‘हाय मार डाला रे, हाय मार डाला रे..’ बोल-बोलकर हद पार कर गई.
तो प्रशांत ने भी काउंटर करते हुए बोला- चुप साली चुदक्कड़, चुप रह नहीं तो लिटाकर पूरा लंड डाल दूंगा और 20 मिनट तक लगातार पेलता रहूंगा.

दरअसल अब नीना अपनी चुदाई थ्योरी को प्रशांत पर आजमाना चाह रही थी. लिहाजा कुछ ज्यादा ही नाटक करते हुए भड़क उठी और बोली- साले कुत्ते, समझता क्या है अपने आप को? शादी के पहले तीन-तीन लंड खाई हूं और तुझसे तगड़े लंड का मजा भी ले चुकी हूं.
“हां कुतिया.. वो तो तेरी चूत की सूजन बता रही थी.” प्रशांत ने हंसते हुए कहा.
नीना आगबबूला हो रही थी और लगातार बोलने लगी- अरे, मेरे पति का लंड तुझसे छोटा है, जिससे बड़े लंड की प्रैक्टिस नहीं है. मैं बच्ची हूं, जो मैं चुदाई करना नहीं जानती. अब तू मुझे चोदने सिखाएगा? चल, मैं तुझे सिखाती हूं चोदना. दो मिनट में तुझे झाड़ती हूं. बताती हूं कि चुदाई कैसे होती है?

इस तरह प्रशांत के लंड से मात खाई बेइज्जती का बदला लेने के लिए नीना ने हिम्मत जुटाकर अपना फेवरेट पोज बनाया और चैलेंज दे डाली प्रशांत को चोदने के लिए.

दरअसल मेरी चुदक्कड़ नीना अपने चूतड़ के नीचे दो तकिए रखती है. फिर चोदने वाले के कंधे पर अपनी टांगें डाल देती है. साथ ही चुदाई के समय चूत को लगातार सिकोड़ती और छोड़ती रहती है, जिससे लंड पर चूत का तगड़ा ग्रिप बना रहता है. दूसरे.. खुली चूत का ऑफ़र देखकर कैसा भी चोदूवीर पहले ही नर्वस हो जाता है.
इस तरह नीना रानी वन टू वन सीधी चुदाई करती है. इस पोज में चोदने वाला अक्सर बहुत जल्दी या कुछ मिनट के भीतर ही झड़ जाता है.

प्रशांत के साथ भी वैसा ही हुआ, जो हश्र नीना दूसरों का करती है. फचाक-फचाक कुछ धक्के में ही प्रशांत झड़ने लगा, तो शरारत में लंड निकालकर उजला माल नीना की चूत से चूचियों के बीच परोस डाला.
यह एक तरह का बदला था, जो उसने नीना से ले लिया. बहरहाल नीना और प्रशांत का यह मैच टाई पर छूटा. न तुम हारे, न मैं.. वाली बात साबित हुई.

मेरी नीना इस बात से खुश थी कि उसने दो मिनट में प्रशांत के छक्के छुड़ा दिए. मगर सच तो यह है कि नए लंड का मजा लेते समय मेरी नीना को यह पोज जन्नत की चुदाई का एहसास कराता है.

चुदाई के इस सत्र की समाप्ति पर करीब डेढ़ घंटा बीत चुका था. अब दोनों को ही अपने-अपने काम में लगना था. मगर प्रशांत को छोड़ने से पहले नीना एक बार फिर उसके लौड़े की कुल्फी गटकना चाह रही थी. लिहाजा बगल में रखे हुए थर्मस से गरम पानी निकालकर उसने पहले अपनी चूचियों से लेकर पेट से होते हुए चूत तक की सफाई की. फिर प्रशांत के लंड की सफाई भी बड़े प्यार से करने लगी, जिस क्रम में उसने टेलकम पॉवडर और परफ्यूम भी स्प्रे किया. इससे फिजां रंगीन बन गई. यह वाकयी बेहद जरूरी था, क्योंकि एक बार फिर से मेरी नीना रानी मुख-मैथुन का सुख देकर अपने किराएदार प्रशांत के लौड़े का एहसान उतारना चाह रही थी और उसने किया भी.

अब अगले तीन दिन बाद मुझे घर वापस आना था तो नीना की चूत मेरी सेवा में किस तरह हाजिर हुई. यह सच आप जान सकेंगे मेरी अगली सेक्स कहानी में. फिलहाल नीना की चुदाई की कहानी के इस धारावाहिक के बारे में आपकी राय क्या है? मुझे जरूर बताएं, ताकि मैं नीना की चूत की आरती उतार सकूं. यकीन करें, इस बड़े पुण्य के भागीदार आप भी बनेंगे.

आप कृपया इस महान चूत पुजारी का मेल आईडी नोट कर लें.
[email protected] आपका अपना दोस्त रितेश शांडिल्य

Check Also

एक अनोखा सेक्सी समझौता-2

This story is part of a series: keyboard_arrow_left एक अनोखा सेक्सी समझौता-1 keyboard_arrow_right एक अनोखा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *